सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सीखने के प्रतिफल, शिक्षण-विधियाँ, समावेशी शिक्षा में आ शिक्षकों की भूमिका

रा.शै.अ.प्र.प. ने सीखने के प्रतिफल को विकसित किया है जो पठन सामग्री को रटकर याद करने पर आधारित मूल्यांकन से दूर हटाने के लिए बनाया गया है।


 योग्यता (सीखने के प्रतिफल) आधारित मूल्यांकन पर जोर देकर, शिक्षकों और पूरी व्यवस्था को यह समझने में मदद की गई है कि बच्चे ज्ञान, कौशल और सामाजिक-व्यक्तिगत गुणों और दृष्टिकोणों में परिवर्तन के मामले में वर्ष के दौरान एक विशेष कक्षा में क्या हासिल करेंगे।

 सीखने के प्रतिफल ज्ञान और कौशल से परिपूर्ण ऐसे कथन हैं जिन्हें बच्चों को एक विशेष कक्षा या पाठ्यक्रम के अंत तक प्राप्त करने की आवश्यकता है और यह अधिगम संवर्धन की उन शिक्षणशास्त्रीय विधियों से समर्थित हैं जिनका क्रियान्वयन शिक्षकों द्वारा करने की आवश्यकता है।

 ये कथन प्रक्रिया आधारित हैं और समग्र विकास के पैमाने पर बच्चे की प्रगति का आकलन करने के लिए गुणात्मक या मात्रात्मक दोनों तरीके से जाँच योग्य बिंदु प्रदान करते हैं। पर्यावरणीय अध्ययन के लिए सीखने के दो प्रतिफल नीचे दिए गए हैं।


. विद्यार्थी विभिन्न आयुवर्ग के लोगों, जानवरों और पक्षियों में भोजन तथा पानी की आवश्यकता, भोजन और पानी की उपलब्धता तथा घर एवं आस-पास के परिवेश में पानी के उपयोग का वर्णन करता है।


• विद्यार्थी मौखिक/लिखित/अन्य तरीकों से परिवार के सदस्यों की भूमिका, परिवार के प्रभावों (लक्षणों/विशेषताओं/आदतों/प्रथाओं) और एक साथ रहने की आवश्यकता का मौखिक/लिखित या किसी अन्य माध्यम से वर्णन करता है।

 उपर्युक्त सीखने के प्रतिफलों को प्राप्त करने के लिए विद्यार्थियों को व्यक्तिगत रूप से या जोड़े अथवा समूहों में काम करने के अवसर प्रदान किए जाते हैं और उन्हें आस-पास के परिवेश का अवलोकन और अन्वेषण करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है, उन्हें मौखिक लिखित चित्र/संकेतों में अपने अनुभव दर्ज एवं व्यक्त करने का अवसर दिया जाता है।

 बच्चों को बड़ों के साथ चर्चा करने और विभिन्न स्थानों पर जाने, उनकी पसंद के विषय पर उनसे जानकारी एकत्र करने और निष्कर्षों पर समूहों में चर्चा करने की अनुमति देने की आवश्यकता है।

आरंभिक स्तर पर सीखने के प्रतिफल सभी बच्चों, जिसमें विशेष आवश्यकताओं वाले बच्चे (सी.डब्ल्यू.एस.एन.) और वंचित समूहों से संबंधित बच्चे भी सम्मिलित हैं, को प्रभावी रूप से सीखने के अवसर प्रदान करने के लिए हैं।

 इन्हें विभिन्न पाठ्यक्रम क्षेत्रों, जैसे—पर्यावरण अध्ययन, विज्ञान, गणित, सामाजिक विज्ञान और भाषा के लिए विकसित किया गया है।

 सीखने के प्रतिफल सभी बच्चों, में विशेष आवश्यकता वाले बच्चे (सी.डब्ल्यू.एस.एन.) भी शामिल हैं, की शिक्षणशास्त्रीय प्रक्रियाओं और पाठ्यचर्या संबंधी अपेक्षाओं से जुड़े हैं।

 वंचित समूहों से संबंधित बच्चों के प्रावधानों में निम्नलिखित शामिल हैं।

• अधिगम प्रक्रिया में उनकी भागीदारी सुनिश्चित करें और उन्हें अन्य बच्चों की तरह प्रगति करने में मदद करें। बच्चों की आपस में तुलना करने से बचें। • व्यक्तिगत आवश्यकताओं के अनुरूप पाठ्यचर्या और सीखने के परिवेश में बदलाव करना।

. विभिन्न पठन क्षेत्रों में अनुकूलित गतिविधियों का प्रावधान

• उम्र और सीखने के स्तरों के अनुरूप सुलभ पाठ और सामग्री। कक्षाओं का उपयुक्त प्रबंधन, जैसे—शोर, चकाचौंध आदि का प्रबंधन। सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आई.सी.टी.), वीडियो या डिजिटल स्वरूप का उपयोग करके अतिरिक्त सहायता का प्रावधान।

गतिशीलता सहायक यंत्र (व्हील चेयर, बैसाखी, सफ़ेद बेंत), श्रवण-सहायक, ऑप्टिकल या गैर-ऑप्टिकल सहायता, शैक्षिक सहायता (टेलर फ्रेम, एबेकस आदि)। • अन्य बच्चों को विशेष आवश्यकता वाले बच्चों की विशेषताओं और कमज़ोरियों के प्रति संवेदनशील बनाना।

• आकलन के सफल समापन के लिए उपयुक्त विधि और अतिरिक्त समय का चयन करना। घरेलू भाषा के लिए सम्मान और सामाजिक-सांस्कृतिक परिवेश (जैसे-परंपराएँ और रीतिगत प्रथाएँ आदि) से जुड़वा।


सभी बच्चों के लिए सीखने के प्रतिफल प्राप्त करने हेतु शिक्षण-विधियाँ समावेशी शिक्षा-शिक्षकों की भूमिका :

 शिक्षा प्रक्रिया का वह एक हिस्सा जो विशेष आवश्यकता वाले और हाशिए पर रह रहे अन्य बच्चों को समावेशित करता है, के लिए एक महत्वपूर्ण वैचारिक विश्लेषण की आवश्यकता है कि क्यों वर्तमान में उपलब्ध नियमित मुख्यधारा प्रणाली, विद्यालयी-उम्र के सभी बच्चों के लिए अच्छी गुणवत्ता की शिक्षा प्रदान करने में सफल नहीं हो रही है।

 इसके लिए आवश्यकता है कि स्थानीय संदर्भों में मौजूदा संसाधनों एवं नवीन प्रथाओं की पहचान, पहुँच, सहभागिता एवं अधिगम धातुओं की जाँच भी की जानी चाहिए।

 नीचे दी गई कहानी 'द एनिमल स्कूल' (जानवरों का विद्यालय) पढ़ें। कहानी पढ़ने के बाद दिए गए प्रत्येक प्रश्न पर अपने विचार पूरे समूह के साथ साझा करें-

शिक्षकों को यह याद रखना चाहिए कि प्रभावी और समावेशी शिक्षण सभी बच्चों के लिए अच्छा है। इससे बच्चों की विलक्षण विशेषताओं/गुणों और कमज़ोरियों पर ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है और इस प्रकार उनकी व्यक्तिगत अधिगम की आवश्यकताओं को भी पूरा किया जाता है।

 सीखने के प्रतिफलों को प्राप्त करने के लिए सभी विद्यार्थियों को अधिगम के प्रभावी अवसर प्रदान करने होंगे, जिसके लिए विशिष्टता से समावेशिता तक एक नाटकीय बदलाव की आवश्यकता है। यदि हमें विद्यालय में सफलता (एन.सी.एफ. 2005) हासिल करनी है तो न केवल सांस्कृतिक विविधता बल्कि विविध सामाजिक तथा आर्थिक पृष्ठभूमि वाले और शारीरिक, मनोवैज्ञानिक एवं बौद्धिक विशेषताओं में भिन्नता वाले बच्चों को भी ध्यान में रखना होगा।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गणित सीखने-सिखाने का सही क्रम क्या होना चाहिए?

बच्चों के पास स्कूल आने से पहले गणित से सम्बन्धित अनेक अनुभव पास होते हैं बच्चों के तमाम खेल ऐसे जिनमें वे सैंकड़े से लेकर हजार तक का हिसाब रखते हैं। वे अपने खेलों में चीजों का बराबर बँटवारा कर लेते हैं।  अपनी चीजों का हिसाब रखते हैं। छोटा-बड़ा, कम-ज्यादा, आगे-पीछे, उपर-नीचे, समूह बनाना, तुलना करना, गणना करना, मुद्रा की पहचान, दूरी का अनुमान, घटना-बढ़ना जैसी तमाम अवधारणाओं से बच्चे परिचित होते हैं।  हम बच्चों को प्रतीक ही सिखाते हैं। उनके अनुभवों को प्रतीकों से जोड़ना महत्वपूर्ण है। गणित मूर्त और अमूर्त से जुड़ने और जूझने का प्रयास है अवधारणाएँ अमूर्त होती हैं चाहे विषय कोई भी हो।  गणितीय अमूर्तता को मूर्त, ठोस चीजों की मदद से सरल बनाया जा सकता है। जब मूर्त को अमूर्त से जोड़ा जाता है तो अमूर्त का अर्थ स्पष्ट हो जाता है।  प्रस्तुतीकरण के तरीकों से भी कई बार गणित अमूर्त प्रतीत होने लगता है। शुरुआती दिनों में गणित सीखने में ठोस वस्तुओं की भूमिका अहम होती है इस उम्र में बच्चे स्वाभाविक तौर पर तरह-तरह की चीजों से खेलते हैं, उन्हें जमाते. बिगाड़ते और फिर से जमाते हैं।  इस प्रक्रिया में उनकी

गणित में जोड़ शिक्षण के तरीके और गतिविधियां, देखें गतिविधियों के माध्यम से

गणित सीखने-सिखाने के परम्परागत तरीकों में गणित सीखने की प्रक्रिया की लगातार होती गयी है और धीरे-धीरे वह परिणाम आधारित हो गयी।  आप भी अपनी कक्षा में यही सब नहीं कर रहे हैं? कैसा माहौल रहता है आपकी गणित की कक्षा में? इसी माहौल से गुजर कर आपके सवालों के सही जवाब भी देने लगते होंगे।  पर क्या आपने जानने की कोशिश की कि ने सही जवाब देने के लिए किस प्रक्रिया को अपनाया? एक साधारण जोड़ को बच्चे ने इस प्रकार किया।   यहाँ विचार करें तो आप पाते हैं कि पहले प्रश्न को बच्चे ने सही हल किया परन्तु दूसरे शल में वही प्रक्रिया अपनाने के बाद भी क्यों उसका उत्तर सही नहीं हैं? क्या हमारी लक्ष्य केवल इतना है कि बच्चा जोड़ना सीख लें? या उसमें जोड़ करने की प्रक्रिया की समझ भी विकसित करनी है वास्तव में जोड़ की समझ के विकास में निहित है। दो या अधिक वस्तुओं या चीजों को एक साथ मिलने से परिणाम के रूप में वस्तुओं की संख्या का बढ़ना। स्थानीय मान का शामिल होना। . यह समझना है कि हासिल अर्थात जोड़ की क्रिया में परिणाम दस या अधिक होने पर दहाई की संख्या अपने बायें स्थित दहाइयों में जुड़ती हैं जिसे हासिल समझा जाता है। . परि

निष्ठा FLN प्रशिक्षण, उत्तर प्रदेश Module 07 & 08 Launch Start Date : 1 January 2022

 *निष्ठा FLN प्रशिक्षण, उत्तर प्रदेश*  *Module 07 & 08 Launch*  Start Date : *1 January 2022*     End Date:    *31 January 2022* BSA, DIET प्राचार्य, BEO, KRP, SRG, ARP, DIET मेंटर, शिक्षक संकुल, निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर एवं अन्य सभी सदस्य कृपया ध्यान दें: जैसा की आप अवगत है कि, निष्ठा FLN प्रशिक्षण प्रदेश में 15 October 2021 से  दीक्षा पोर्टल के माध्यम से शुरू किया गया है ।  इसी क्रम मे *Module 07 एवं 08, 1 January 2022 से Live* किये जा रहें हैं, सभी BSA, DIET प्राचार्य, BEO, SRG, KRP, ARP, DIET मेंटर एवं निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर *इस अनिवार्य प्रशिक्षण से सभी प्राथमिक विद्यालयों एवं कंपोज़िट विद्यालयों के कक्षा 1 से 5 तक के शिक्षकों को जोड़ना सुनिश्चित करें*|  * प्रशिक्षण से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियाँ निम्वत है- *   *Module 7 (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/learn/course/do_31344276907900928013332 *   *Module 8  (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/learn/course/do_31344275972232806413310 *   *Important Note-*   *1.* प्रशिक्षण से पहले सभी users अपना दीक्षा ऐप playstor

समावेशी शिक्षा क्या है? समावेशी शिक्षा की विशेषताएं एवं रिपोटिंग/डाक्युमेन्टेशन

कक्षा में बच्चों के साथ कार्य करते हुए आपने अनुभव किया होगा कि हर बच्चा स्वयं में कोई न कोई विशिष्टता एवं विविधता लिए होता है । उनके रुचि और रुझानों में भी यह विविधता पाई जाती है।  यह विविधता काफी हद तक उनके परिवेश एवं परिस्थितियों के कारण या शारीरिक आकार प्रकार से प्रभावित होती है। बच्चों में इस विविधता के कारण कुछ खास श्रेणियाँ उभरकर आती हैं। जैसे- तेज/धीमी गति से सीखने वाले, शारीरिक कारणों से सीखने में बाधा अनुभव करने वाले बच्चे, परिवेशीय व लैंगिक विविधता वाले बच्चे।  इनमें कुछ और श्रेणियाँ भी जुड़ सकती हैं। शिक्षक के रूप में इतनी विविधता से भरे बच्चों को हमें कक्षा के भीतर सीखने का समावेशी वातावरण देना होता है। समावेशी शिक्षा अर्थात् ऐसी शिक्षा जो सबके लिए हो। विद्यालय में विविधताओं से भरे सभी प्रकार के बच्चों को एक साथ एक कक्षा में शिक्षा देना ही समावेशी शिक्षा है। समावेशी शिक्षा से तात्पर्य है वह शिक्षा जिसमें किसी एक विशेष व्यक्ति श्रेणी पर निर्भर न होकर सभी को शामिल किया जाता है । "समावेशन शब्द का अपने-आप में कुछ खास अर्थ नहीं होता है। समावेशन के चारों ओर जो वैचारिक, दार्

विद्यालय व्यवस्था : शिक्षकों के कौशल, विविधता की स्वीकार्यता और समाधान

विद्यार्थियों में अंतर की पहचान करने के लिए संवेदनशीलता विशेष आवश्यकता वाले बच्चों के गुणों और कमजोरियों, योग्यता और रुचि के बारे में जागरूक होना।  • विद्यार्थियों के बीच सामाजिक-सांस्कृतिक, सामाजिक आर्थिक और भौतिक विविधताओं की स्वीकृति—सामाजिक संरचना, पारंपरिक और सांस्कृतिक प्रथाओं, प्राकृतिक आवास, घर तथा पड़ोस में परिवेश को समझना। • मतभेदों की सराहना करना और उन्हें संसाधन के रूप में मानना- अधिगम प्रक्रिया में बच्चों के विविध संदर्भ और ज्ञान का उपयोग करना शिक्षण-अधिगम की विभिन्न जरूरतों को समझने के लिए समानुभूति और कार्य- अधिगम शैलियों पर विचार करना और उसी के अनुसार प्रतिक्रिया देना।  शिक्षार्थियों को विभिन्न विकल्प प्रदान करने के लिए संसाधन जुटाने की क्षमता- आस-पास से कम लागत की सामग्री, कलाकृतियों, अधिगम उपयोगी सहायक स्थानों, मानव संसाधनों और मुद्रित तथा डिजिटल रूप में अनेक संसाधनों को पहचानना एवं व्यवस्थित करना। • प्रौद्योगिकी के उपयोग से अधिगम सहायता करना- विभिन्न एप्लिकेशन का उपयोग। उदाहरण के लिए गूगल आर्ट एंड कल्चर, गूगल स्काई, गूगल अर्थ, विषय विशिष्ट ऐप्स जियोजेब्रा, ट्रक्स ऑफ़

UPTET 2021 Sanskrit Sahitya Practice Set: संस्कृत साहित्य के ‘कवि और रचनाओ’ पर आधारित 15 संभावित सवाल जो परीक्षा में पूछे जा सकते हैं, अभी पढ़े

 UPTET परीक्षा 2021 का आयोजन 23 जनवरी 2022 को किया जाएगा, इस परीक्षा में अब 20 दिन का बेहद कम समय बचा है, ऐसे में परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थी अपनी अंतिम तैयारी में जुटे हुए हैं । यूपीटीईटी का सिलेबस बहुत बड़ा है, जिसको बिना लक्ष्य बनाएं पूरा नहीं किया जा सकता अब बचे हुए कम समय को देखते हुए अभ्यार्थियों को उन टॉपिक्स पर टारगेट करना होगा ,जिसके आने की उम्मीद ज्यादा है साथ ही अभ्यर्थी पिछली बार की परीक्षा में पूछे गए प्रश्नों के अनुसार ही अपने स्टडी मटेरियल का चुनाव करें। यहां हम उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (UPTET) के लिए रोजाना प्रैक्टिस सेट और रिवीजन क्वेश्चन उपलब्ध करा रहे हैं, उसी क्रम में आज हम आपके लिए ‘संस्कृत साहित्य’ के प्रमुख कवि और रचनाओं पर आधारित कुछ महत्वपूर्ण सवाल लेकर आए हैं, (UPTET Sanskrit Sahitya MCQ) जिससे परीक्षा में 1 से 2 सवाल पूछे जाते हैं अतः परीक्षा में शामिल होने से पूर्व आपको इन सवालों को एक नजर अवश्य पढ़ लेना चाहिए। यूपीटीईटी परीक्षा में बार-बार पूछे जाते हैं संस्कृत साहित्य के सवाल— Sanskrit Sahitya Expected Practice Questions for UPTET

मिशन प्रेरणा की ई - पाठशाला 6.0 : सप्ताह (23 जनवरी - 28 जनवरी) के लिए ग्रेड-वार क्विज़ के लिंक

 *|| मिशन प्रेरणा की ई - पाठशाला 6.0 ||* अवगत हैं कि राज्य में कोविड -19 महामारी के बढ़ते मामलों के चलते विद्यालयों में शिक्षण गतिविधियां स्थगित कर दी गयी हैं। तत्क्रम में बच्चों में सीखने की निरंतरता के दृष्टिगत "मिशन प्रेरणा की ई-पाठशाला 6.0" के संचालनार्थ विस्तृत निर्देश प्रेषित किये गए हैं।। उक्त आदेश के क्रम में प्रत्येक *शनिवार* को *कक्षा 1-8* के लिए ई-पाठशाला के क्विज़ साझा किये जाएंगे।  *अगले सप्ताह (23 जनवरी - 28 जनवरी) के लिए ग्रेड-वार क्विज़ के लिंक निम्नलिखित हैं:* १) ग्रेड 1-2: https://bit.ly/E_PathshalaQuiz1-2 2) ग्रेड 3-5: https://bit.ly/E-PathshalaQuiz3-5 3) ग्रेड 6-8: http://bit.ly/ePathshalaQuiz6-8 कृपया सुनिश्चित करें कि क्विज़ लिंक अभिभावकों/प्रेरणा साथी के साथ साझा किया जाये ताकि अधिक से अधिक छात्र क्विज़ प्रतियोगिता में भाग ले सकें एवं  लाभ उठा सकें। तो चलिए, हम सब कोविड महामारी के कारण बच्चों की पढ़ाई के नुकसान को कम करने में हम सब अपनी भूमिका का निर्वहन करें। याद रहे, - *घर ही बन जायेगा विद्यालय हमारा, हम चलाएंगे ई- पाठशाला।* आज्ञा से महानिदेशक स्कू

UPTET 2021 संस्कृत प्रैक्टिस सेट: परीक्षा में पूछे जाएँगे ‘माहेश्वर सूत्रों’ से संबंधित प्रश्न ये सवाल

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक तथा उच्च प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती हेतु आयोजित की जाने वाली यूपी टेट परीक्षा 23 जनवरी को आयोजित की जाएगी।  परीक्षा में 21 लाख से अधिक अभ्यर्थी शामिल होंगे, यदि आप भी यूपी टेट परीक्षा देने जा रहे हैं तो यहां दी गई जानकारी आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण है। उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (UPTET) में सफलता प्राप्त करने के लिए अभ्यर्थियों को परीक्षा के इन शेष दिनों में रिवीजन के साथ प्रैक्टिस सेट का अभ्यास जरूर करना चाहिए।  हम रोजाना यूपीटेट परीक्षा हेतु सभी महत्वपूर्ण टॉपिक पर रिवीजन क्वेश्चन शेयर कर रहे हैं।  इसी श्रंखला में आज हम “संस्कृत व्याकरण” के अंतर्गत पूछे जाने वाले “महेश्वर सूत्रों” से संबंधित सवाल शेयर कर रहे हैं।   इस टॉपिक से परीक्षा में हमेशा सवाल पूछे जाते हैं ऐसे में यदि आप यूपीटेट परीक्षा में शामिल होने वाले हैं तो यह सवाल जरूर पढ़ लें। परीक्षा में पूछे जाते है माहेश्वर सूत्रों से संबंधित प्रश्न ये सवाल- UPTET 2021 Sanskrit Vyakran MAHESHWAR SUTRA Important Questions Q1. माहेश्वर सूत्र के अनुसार अच् है? (a) 13 (b) 11 (c) 9 (d) 2

UPTET 2021 Child Psychology Revision MCQ: परीक्षा के अंतिम दिनों में ‘बाल मनोविज्ञान’ के इन 15 संभावित सवालों से करें परीक्षा की, पक्की तैयारी

 UPTET Child Psychology Revision Question : उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा आयोजित की जाने वाली यूपी टीईटी परीक्षा का आयोजन 23 जनवरी 2022 को किया जाएगा परीक्षा के एडमिट कार्ड 13 जनवरी को जारी कर दिए गए हैं, जिसे आप ऑफिशल वेबसाइट पर जाकर डाउनलोड कर सकते हैं, अब परीक्षा के आयोजन में केवल 1 सप्ताह का समय ही शेष रह गया है, ऐसे में परीक्षार्थी अपनी तैयारी को अंतिम रूप देने में लगे हुए हैं, यदि आप इस परीक्षा में सम्मिलित होने वाले हैं तो यहां दी गई जानकारी आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण है। इस आर्टिकल में यूपी टीईटी परीक्षा में पूछे जाने वाले महत्वपूर्ण टॉपिक ‘बाल मनोविज्ञान’ से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण सवाल लेकर आए हैं,परीक्षा हॉल जाने से पूर्व आपके सवालों को एक नजर अवश्य पढ़ लेना चाहिए। परीक्षा में अक्सर पूछे जाते हैं ‘बाल मनोविज्ञान’ के महत्वपूर्ण सवाल—UPTET Exam 2021 Child Psychology Fast Revision MCQ Q.1 एक अभिभावक आपसे विद्यालय में मिलने के लिए कभी नहीं आता है, तो आप– (a) बच्चे की उपेक्षा करेंगे (b) अभिभावक को लिखेंगे (c) बच्चे को दंड देना शुरू करेंगे (d) आप स्वयं उनसे मिलने जाएंगे

विद्यालयों में सहशैक्षिक गतिविधियों को कैसे क्रियान्वित करें?

प्रारम्भिक विद्यालयों में सह शैक्षिक गतिविधियों के आयोजन में प्रधानाध्यापक एवं अध्यापक की भूमिका को निम्नवत् देखा जा सकता है।  • विद्यालयों में सहशैक्षिक गतिविधियों को कैसे क्रियान्वित करें, इसके बारे में परस्पर चर्चा करना तथा आवश्यक सहयोग प्रदान करते हुए निरंतर संवाद बनाये रखना। क्रियाकलापों का अनुश्रवण करना तथा आयी हुई समस्याओं का निराकरण सभी की सहभागिता द्वारा करना। इन क्रियाकलापों में बालिकाओं की सहभागिता अधिक से अधिक हो साथ ही साथ सभी छात्रों की प्रतिभागिता सुनिश्चित हो, इस हेतु सामूहिक जिम्मेदारी लेना।। • समय सारिणी में खेलकूद/ पीटी,ड्राइंग, क्राफ्ट, संगीत, सिलाई/बुनाई व विज्ञान के कार्यों प्रतियोगिताएं हेतु स्थान व वादन को सुनिश्चित करना।  • स्कूलों में माहवार/त्रैमासिक कितनी बार किस प्रकार की प्रतियोगिताएं कराई गई, इसकी जानकारी प्राप्त करना एवं रिकार्ड करना। बच्चों के स्तर एवं रुचि के अनुसार कहानियां, चुटकुले, कविता आदि का संकलन स्वयं करना तथा बच्चों से कराना।  • विज्ञान/गणित सम्बन्धी प्रतियोगिताओं हेतु विषय से सम्बन्धित प्रश्न बैंक रखना। आवश्यक वस्तुओं का संग्रह रखना। जन सहभाग