सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

विद्यालय व्यवस्था : शिक्षकों के कौशल, विविधता की स्वीकार्यता और समाधान

विद्यार्थियों में अंतर की पहचान करने के लिए संवेदनशीलता विशेष आवश्यकता वाले बच्चों के गुणों और कमजोरियों, योग्यता और रुचि के बारे में जागरूक होना।


 • विद्यार्थियों के बीच सामाजिक-सांस्कृतिक, सामाजिक आर्थिक और भौतिक विविधताओं की स्वीकृति—सामाजिक संरचना, पारंपरिक और सांस्कृतिक प्रथाओं, प्राकृतिक आवास, घर तथा पड़ोस में परिवेश को समझना।

• मतभेदों की सराहना करना और उन्हें संसाधन के रूप में मानना- अधिगम प्रक्रिया में बच्चों के विविध संदर्भ और ज्ञान का उपयोग करना शिक्षण-अधिगम की विभिन्न जरूरतों को समझने के लिए समानुभूति और कार्य- अधिगम शैलियों पर विचार करना और उसी के अनुसार प्रतिक्रिया देना।

 शिक्षार्थियों को विभिन्न विकल्प प्रदान करने के लिए संसाधन जुटाने की क्षमता- आस-पास से कम लागत की सामग्री, कलाकृतियों, अधिगम उपयोगी सहायक स्थानों, मानव संसाधनों और मुद्रित तथा डिजिटल रूप में अनेक संसाधनों को पहचानना एवं व्यवस्थित करना।

• प्रौद्योगिकी के उपयोग से अधिगम सहायता करना- विभिन्न एप्लिकेशन का उपयोग। उदाहरण के लिए गूगल आर्ट एंड कल्चर, गूगल स्काई, गूगल अर्थ, विषय विशिष्ट ऐप्स जियोजेब्रा, ट्रक्स ऑफ़ मैथ और गूगल स्पीका

• अंतर-वैयक्तिक संबंधों मृदु कौशलों से निपटना- सुनने, प्रतिक्रिया देने, बातचीत शुरू करने और बनाए रखने, सकारात्मक संबंध, शारीरिक उपस्थिति और हाव-भाव के कौशल।

जेंडर-संवेदनशील शिक्षा :

हम सभी जानते हैं कि जेंडर सभी विषयों में दखल देने वाला एक सरोकार है और यह ज्ञान के निर्माण के लिए बुनियाद है। जेंडर संवेदनशीलता एक महत्वपूर्ण शैक्षणिक चिंता है जिसे शिक्षकों को अपने शिक्षण-अधिगम की प्रक्रियाओं में समेकित करना चाहिए। 

सुगमकर्ताओं के रूप में सकारात्मक दृष्टिकोण और शैक्षणिक हस्तक्षेप के द्वारा, वे विद्यार्थियों को सामाजीकरण प्रक्रियाओं से मिले जेंडर तथा रूढ़िवादी दृष्टिकोण को सही रूप से समझने एवं अपनाने में मदद कर सकते हैं।

 शिक्षकों को पाठ्यसामग्री और पाठ्यक्रम संबंधी कार्यों में जेंडर पूर्वाग्रह के कारकों की पहचान करने, पुरुष और महिला पात्रों की भूमिका तय करने और पठन सामग्री के संबंध में पूर्वाग्रह की पहचान करने, भाषायी पूर्वाग्रह का पता लगाने तथा राजनीतिक-सामाजिक एवं आर्थिक प्रक्रियाओं सहित सभी क्षेत्रों में महिलाओं की भागीदारी को पहचानने की भी आवश्यकता है।

विषयों के अध्यापन में समावेश को बढ़ावा देना-


शीर्षक "मैं, एक शिक्षार्थी के रूप में दिए गए छह कथनों को पढ़ें और उन्हें स्वयं पूरा करें।


मैं, एक शिक्षार्थी के रूप में....


मुझे सीखने में मज़ा आता है, जब---------


मैं जल्दी सीखता हूँ, जब------


पाठ्यपुस्तकों से सीखना। -----------------------  है।


समूहों में सीखना--------------------------------------है।


में किसी और से भली-भाँति सीखता हूँ, जब कोई-----   --------------      -----


मुझे सीखने में मजा आता है, जब-    ----------------


बड़े समूह में प्रत्येक कथन पर अपनी प्रतिक्रियाएँ साझा करें और उन पर विचार-विमर्श करो यह स्पष्ट है कि हम सभी के लिए सफलतापूर्वक सीखने की अपनी प्राथमिकता है।

 उपरोक्त अभ्यास का उपयोग आपकी कक्षा के बच्चों के साथ विद्यार्थियों के रूप में उनके बारे में अधिक जानने के लिए और तदनुसार शिक्षण की योजना बनाने के लिए किया जा सकता है। 

आप बच्चों को मौखिक रूप से वाक्य लिखने या प्रतिक्रिया देने के लिए कह सकते हैं।



भाषाओं के शिक्षण में समावेश:

कुछ बच्चों को भाषा सीखने में विशिष्ट कठिनाइयाँ हो सकती हैं। कठिनाइयों को दूर करने के लिए शिक्षकों को उपयुक्त कार्यनीति अपनाने की आवश्यकता हो सकती है। इनमें, ये कार्यनीतियाँ शामिल हो सकती हैं।

 • सभी बच्चों को लाभान्वित करने वाली वास्तविक जीवन स्थितियों से संबंधित सामग्री को शामिल करना। 

• जहाँ किसी भी क्षेत्र में एक से अधिक भाषाओं का उपयोग किया जाता है, वहाँ

अधिकांश लोगों द्वारा बोली जाने वाली अथवा पसंदीदा भाषा का उपयोग। सभी बच्चों में सांकेतिक भाषा (साइन लैंग्वेज) और ब्रेल-लिपि के बारे में जागरूकता और संवेदनशीलता पैदा करना। .

बोली जाने वाली भाषा का उपयोग करने में आने वाली कठिनाइयों की भरपाई के लिए वैकल्पिक संचार प्रणाली।

लेखन में कठिनाइयों का सामना करने वाले बच्चों के लिए आई.सी.टी. का उपयोग करना।

• कुछ बच्चों को लिखित जानकारी को समझने के लिए सहायता की आवश्यकता हो सकती है।

• दृश्य सामग्री से सीखने और लंबे अनुच्छेदों के लिए व्यक्तिगत ध्यान तथा अधिक समय दें। ब्रेल-पठन सामग्री को पढ़ने का अर्थ है वाक्यांशों, वाक्यों आदि को संश्लेषित कर

पूर्णता में याद रखना। यही कारण है कि ब्रेल पाठ को पढ़ने के दौरान दृष्टिबाधित बच्चों को अधिक समय की आवश्यकता होती है।

• श्रवणबाधित बच्चों के साथ काम करने वाले शिक्षकों और अन्य लोगों के लिए ज़रूरी है कि वह नयी शब्दावली को समझने, शब्दों के बीच भेदभाव करने और कई अर्थों वाले शब्दों को समझने में आवश्यकतानुसार सहायता प्रदान करें।

• वाक्यों की रचना में व्याकरण और शब्दों का सही उपयोग करना शामिल है, जो कुछ बच्चों के लिए मुश्किल हो सकता है। व्याकरण (भूत काल, अव्यय, कर्तृवाच्य और कर्मवाच्य आदि) का उपयोग करने में भी शायद उन्हें चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है।

 शिक्षकों को वाक्य निर्माण, विचारों और अवधारणाओं के बीच संबंध बनाने, विचारों को समझने तथा वाक्यांशों के उपयोग पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है।

• संज्ञानात्मक दुर्बलता वाले बच्चों के साथ काम करने वाले शिक्षकों और अन्य लोगों के लिए आवश्यक है कि वे मौखिक भाषा (सुनना, विचारों की अभिव्यक्ति और बोलना), मुखरता (धाराप्रवाह और सुसंगत रूप से बोलने की क्षमता) और पढ़ने (डिकोडिंग ध्वन्यात्मक ज्ञान और शब्द पहचानने) में उनकी सहायता प्रदान करें।

 विद्यार्थी कुछ शब्दों को छोड़ सकता है, उनका स्थान भुला सकता है, एक शब्द की बजाय दूसरा उपयोग कर सकता है और आलंकारिक भाषा, जैसे— मुहावरे, रूपक, उपमा इत्यादि को समझने में कठिनाई का अनुभव कर सकता है।


• बच्चों को कक्षा में भाषा बोध (नयी शब्दावली, वाक्य संरचना, विभिन्न अर्थों और अवधारणाओं वाले शब्दों) या समझने या लिखने में कठिनाई हो सकती है; विशेष रूप से तब, जब कक्षा में तेज़ी से प्रस्तुति की जाती है। 

शिक्षकों को यह भी याद रखने की आवश्यकता है कि कुछ बच्चों को विचारों को व्यवस्थित करने, पाठ याद करने व दोहराने, शब्दों का उच्चारण करने या एक कहानी का क्रम ज्ञात करने और आँखों के तालमेल वाली गतिविधियों तथा लेखन (अस्पष्ट लिखावट, वर्तनी की लगातार गलतियाँ) करते समय कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है।


गणित के शिक्षण में समावेश :

कुछ विद्यार्थियों की संबंधित कठिनाइयों को करने के लिए आवश्यक है कि भाषा को दूर सरल बनाया जाए। स्पर्शनीय सामग्री, ज्यामिति के लिए सहायक शिक्षण सामग्री और प्रश्नों को हल करते समय संगणक उपलब्ध कराया जाए।

 बच्चों को ग्राफ़, सारणी या बार चार्ट में आंकड़ों की व्याख्या करने में भी मदद की आवश्यकता हो सकती है। ऐसे विद्यार्थी हो सकते हैं जिन्हें दिशाओं की मौखिक व्याख्या करने या मानसिक गणना करते समय मदद की आवश्यकता हो।

 आई.सी.टी. का उपयोग मात्रात्मक और अमूर्त अवधारणाओं के साथ कठिनाइयों को दूर करने में मदद कर सकता है। दृष्टिबाधित बच्चों के साथ काम करने वाले शिक्षकों और अन्य लोगों को उन्हें स्थानिक

अवधारणाओं को विकसित करने और स्थानिक अवधारणाओं के बीच संबंधों को समझने, त्रि-आयामी वस्तुओं के दो-आयामी स्वरूप को समझने और गणित संबंधी विशेष अक्षरों (प्रतीकों) को समझने के लिए सहायता प्रदान करने की आवश्यकता है। 

इन बच्चों को गणितीय पाठ की ऑडियो रिकॉर्डिंग (उदाहरण के लिए, समीकरण) की व्याख्या करने में कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है। 

इन्हें स्थानिक व्यवस्था, रंग कोड और नेमेथ (Nemeth) या किसी अन्य गणितीय ब्रेल कोड को समझने में अथवा गणितीय पाठ को लिखने और पढ़ने में कठिनाई हो सकती है।

• श्रवणबाधित बच्चों के साथ काम करने वाले शिक्षकों और अन्य लोगों को बच्चों के लिए सहायता प्रदान करने की आवश्यकता है- भाषायी विकास में देरी के कारण, जिससे सामान्य शब्दावली और गणित की तकनीकी शब्दावली (पारस्परिक, रैखिक जैसे शब्दों) की कमी हो सकती है, गणितीय समस्याओं के अर्थ को समझाने के लिए अत्यधिक शब्दों और बहुअर्थों वाले विभिन्न शब्दों का प्रयोग, जैसे-ब्याज, सारणी, क्रेडिट, दर, आयतन, ऊर्जा, बिंदु, कोण इत्यादि।

 होठों/स्पीच रीडिंग के दौरान विद्यार्थी को शायद कुछ गणित के शब्दों, से— दसवीं और दसवीं, साठ और आठ आदि में भेद करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। 

संज्ञानात्मक कार्यनीतियों के उपयोग से सार्थक जानकारी का चयन करने और समस्याओं को हल करने के लिए आवश्यक नियमों को लागू करने संबंधी सीमाओं के कारण भी समस्यायों का सामना करना पड़ सकता है। 

• संज्ञानात्मक हानि वाले बच्चों को अनुक्रमण, समस्या को चरणबद्ध हल करने और स्थानीय मान में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।

 गणितीय गणना, संख्या में परिवर्तन, समस्याओं की प्रतिलिपि बनाना और परिचालन प्रतीकों में भ्रम, जैसे कि x की जगह + और संचालन के अनुक्रमों को याद रखने में कठिनाई भी स्पष्ट है।

 बीजगणित और पूर्णांकों आदि में अमूर्त अवधारणाओं को समझने और ज्यामिति में विभिन्न आकृतियों की पहचान, दिशात्मकता और शब्द समस्याओं को समझने में भी बच्चों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।


ईवीएस और विज्ञान के शिक्षण में समावेश:

• अंदर एवं बाहर की जाने वाली गतिविधियों में कुछ विद्यार्थियों को गतिशीलता और प्रयोगोचित हेर-फेर कुशलताओं में सहायता की आवश्यकता हो सकती है।

 विद्यार्थियों को अनुकूलित या वैकल्पिक गतिविधियों, अनुकूलित उपकरण, आई.सी.टी. का उपयोग, वयस्क या साथियों की सहायता, अतिरिक्त समय और उन पाठों में सहायता से लाभ हो सकता है जो उनके लिए आसानी से सुलभ नहीं हो सकते हैं।

 • कम दृष्टि वाले या दृष्टिहीन बच्चों के साथ काम करने वाले शिक्षकों और अन्य लोगों को चाक बोर्ड पर किए गए कार्यों, प्रदर्शनों, प्रस्तुतियों, ग्राफ़िक्स और आरेखों, प्रयोगों, भौतिक सुरक्षा, सार और कठिन अवधारणाओं को समझने के लिए सहायता की आवश्यकता हो सकती है। इस सब के लिए अधिक समय की आवश्यकता भी हो सकती है।

 श्रवणबाधित बच्चों को अमूर्त शब्दों और अमूर्त अवधारणाओं के बीच संबंध को समझने के लिए सहयोग की आवश्यकता हो सकती है।

 प्रकाश संश्लेषण, अधिवास (habitat) और सूक्ष्मजीव जैसी वैज्ञानिक अवधारणाओं को दृश्य सहायक सामग्री के बिना समझने में कठिनाई हो सकती हैं।

 एक से अधिक आयामों/चरणों वाली समस्याओं को हल करना, उदाहरण के लिए कई आयामों, जैसे- संख्या, आकार और रंग के आधार पर वस्तुओं की तुलना, अपेक्षाकृत रूप से केवल आकार के आधार पर वस्तुओं की तुलना करने से जटिल है।

• संज्ञानात्मक दुर्बलता वाले बच्चों की समुचित समझ हेतु, विज्ञान की तकनीकी भाषा समझाने और अवधारणाओं (उदाहरण के लिए, दबाव और बल) के बीच सार्थक संबंध/संबंधों को उजागर करने के लिए उचित योजना बनाने की आवश्यकता है।

 अमूर्त अवधारणाओं को समझने, योजना बनाने, आयोजन, अनुक्रमण और सामान्यीकरण के लिए सहायता की आवश्यकता होती है। विज्ञान के प्रयोगों का संचालन करते समय साथियों द्वारा दी गई सहायता काफी लाभदायक है।


सामाजिक विज्ञान के शिक्षण में समावेश:

ईवीएस और सामाजिक विज्ञान में सीखने के प्रतिफलों को प्राप्त करने के लिए कुछ विद्यार्थियों को सहायक सामग्रियों एवं अतिरिक्त सहायता की आवश्यकता हो सकती है पाठ्यपुस्तकों की सुलभता हेतु बोलने वाली पुस्तकें/डी.ए.आई.एस.वाई. (डेज़ी) पुस्तकें; वैकल्पिक संचार विधियों, जैसे आई.सी.टी.या डिजिटल सहायता से बोलकर अपने विचारों को संप्रेषित करने के लिए लेखन में मदद; सामग्री और गतिविधियों का अनुकूलन; दिखाई देने वाली जानकारी का प्रबंधन करने के लिए शिक्षा की सहायक वस्तुएँ या विभिन्न भौगोलिक अवधारणाओं, विशेषताओं और पर्यावरण को समझने के लिए सहायता। 

समूह गतिविधियों, जैसे सहयोगी अधिगम द्वारा परियोजना एवं प्रदत्त कार्य (असाइनमेंट) करने से सभी विद्यार्थी कक्षा की सभी गतिविधियों में सक्रिय रूप से भाग लेने में सक्षम बनेंगे। स्पर्श योग्य आरेख/नक्शे, बोलती किताबें, ऑडियो-विजुअल और ब्रेल सामग्री आदि जैसे संसाधनों का उपयोग किया जा सकता है।

• शिक्षकों को भौगोलिक शब्दावली और अवधारणाओं की व्याख्या करते हुए, दृष्टिबाधित बच्चों के लिए सावधानीपूर्वक योजना बनाने की आवश्यकता है।

 उदाहरण के लिए अक्षांश, देशांतर, दिशा-निर्देश और ग्राफ़िक, दृश्य चित्रण जैसे ग्राफ़िक और स्मारकों की वास्तु संरचना का अध्ययन करते समय दृश्य विवरण प्रदान करना, नक्शा, चित्र, शिलालेख और प्रतीक के बारे में बताना।

• इन बच्चों को पर्यावरण और अंतरिक्ष का अवलोकन करने के लिए भी सहायता की आवश्यकता होती है- भूमि, जलवायु, वनस्पति और वन्य जीवन, संसाधनों और सेवाओं का विवरण अध्ययन सामग्री, जैसे-प्रश्न वर्तनी सूची, महत्वपूर्ण संदर्भ, प्रश्नोत्तर और विद्यार्थियों के लिए उपयोगी अन्य जानकारी को स्पर्शक/उभरे प्रारूप या उचित रंग विरोधाभास के साथ पुनः बनाई अथवा बड़े अक्षरों में प्रदान की जा सकती हैं।

• श्रवणबाधित बच्चों को शब्दावली/तकनीकी शब्दों, अमूर्त अवधारणाओं, तथ्यों, तुलनाओं, प्रभाव संबंधों और घटनाओं के कालक्रम आदि की समझ के लिए सहायता की आवश्यकता होती है। 

इससे उन्हें इतिहास और नागरिक शास्त्र में भारी भरकम पाठ (पाठ्यपुस्तक स्रोत सामग्री) का अध्ययन करते समय पढ़ने में मदद मिलती है और वे निष्कर्ष निकाल पाते हैं।

संज्ञानात्मक प्रसंस्करण की समस्या रखने वाले कुछ बच्चों के लिए चित्र, चार्ट, ग्राफ़ और नक्शे को समझना मुश्किल हो सकता है। पढ़ने की कठिनाइयों वाले विद्यार्थियों के लिए लंबे पाठ से सार्थक जानकारी निकालना एक चुनौती हो सकती है।

 इसके अलावा शिक्षक को यह ध्यान रखना चाहिए कि घटनाओं के अनुक्रम को याद रखना और उन्हें आपस में जोड़ना, सर्वमान्यीकरण करना तथा पाठ्यपुस्तकों में दी गई जानकारी को मौजूदा परिवेश के साथ जोड़ना भी कभी-कभी समस्याओं का कारण बन सकता है। 

कुछ बच्चों में अमूर्त अवधारणाओं को समझने और उनकी व्याख्या करने की सीमित क्षमता हो सकती है।



समावेशी वातावरण में मूल्यांकन:

पिछले खंड में विविध शिक्षण आवश्यकताओं वाले बच्चों के लिए समावेशी कक्षा निर्माण में आपकी मदद हेतु कुछ विचार एवं उदाहरण प्रस्तुत किए गए। 

इस खंड में समावेशी व्यवस्था में मूल्यांकन को लागू करने के लिए कुछ सुझाव प्रस्तुत किए गए हैं और ये आपको समावेशी मूल्यांकन में संलग्न होने के नये तरीके विकसित करने के लिए प्रेरित करेंगे। अपने शिक्षण की योजना बनाते समय यह याद रखना अच्छा है कि मूल्यांकन तो पूरे पाठ-शिक्षण के दौरान होता है। 

यह आपको विषय के शिक्षण में निम्नलिखित चरणों को पहचानने और योजना बनाने की अनुमति देता है। अपने पाठ-शिक्षण के अंत में किए मूल्यांकन से यह समझने में मदद मिलती है कि शिक्षण उद्देश्यों की कितनी प्राप्ति हो पाई है।

• एक मिश्रित क्षमता समूह में एक प्रश्न के लिए विभिन्न प्रतिक्रियाओं को प्रोत्साहित करें और स्पष्ट संदेश दें। एक प्रश्न पूछने के बाद पर्याप्त समय के लिए ठह।

 हमें याद रखना चाहिए कि सामग्री को समझाने के लिए की गई गतिविधियाँ फिर से मूल्यांकन के लिए इस्तेमाल की जा सकती हैं। 

• उत्तर देने में लचीलापन अपनाएं। उदाहरण के लिए, याद करने के बजाय देखकर अथवा पहचानकर चुनने, सही उत्तर को रंग करने, काटने और चिपकाने, मिलान करने, विषम चीज़ को इंगित करने आदि के लिए कहें। मसलन-


• श्रवण प्रसंस्करण की आवश्यकता वाले उत्तरों के लिए एकाक्षर (मोनोसिलेबल्स) में प्रतिक्रियाओं को स्वीकार करें। • पाठ्यपुस्तक के अभ्यासों में वर्णमाला की गतिविधियों की ट्रेसिंग की जगह अक्षर के कट-आउट का उपयोग करें, जिससे विद्यार्थी को वर्णमाला के उतार-चढ़ाव और आकार को अधिक बारीकी से जानने में मदद मिलती है।


बोलने संबंधित देरी वाले विद्यार्थियों को अपने अधिगम का प्रदर्शन वैकल्पिक रूप से चित्रों या टिकटों के उपयोग, सीखे हुए को चित्र में, इशारा करके प्रदर्शित करने की अनुमति दें।

• केवल मौखिक या लिखित प्रति उत्तर के बजाय प्रति-उत्तर प्राप्त करने के लिए फ्लैश कार्ड, शब्द कार्ड (उदाहरण के लिए, शब्दों को पेश करने या व्याकरणिक रूप से सही वाक्य का निर्माण करने के लिए), चित्रों और वास्तविक वस्तुओं का उपयोग करें।

 उदाहरण के लिए जब आप किसी जानवर का नाम कहते हैं तो बच्चे को फ्लैश कार्ड लेने के लिए कहें। वास्तविक वस्तुओं की मदद से उत्तर या मिलान की जाँच जैसी गतिविधियां की जा सकती हैं।


निष्कर्ष:

यह मॉड्यूल, विद्यालयों को समावेशी बनाने के काम में लगे हुए शिक्षकों और अन्य सभी हितधारकों की, अपने कार्य हेतु उस आवश्यक ज्ञान, दृष्टिकोण और कौशल प्राप्ति में मदद करेगा, जो विभिन्न समूहों के विद्यार्थियों के साथ प्रभावी ढंग से काम करने के लिए जरूरी है। 

यह सामग्री पाठकों को राष्ट्रीय नीतियों, पाठ्यचर्या की रूपरेखा, विशेष रूप से एन.सी.एफ. 2005, सीखने के प्रतिफलों और उन्हें प्राप्त करने के लिए उपयुक्त तकनीकों के बारे में नजदीकी से जानने में मदद करेगी। 

यह शिक्षकों को इन बातों में सक्षम बनाने में मददगार होगा— समावेशी कार्यनीतियों का उपयोग करने और प्रत्येक बच्चे को समूह के सदस्य के रूप में स्वीकार करने, सभी विद्यार्थियों की ज़रूरतों के लिए कक्षा को भौतिक और व्यावहारिक रूप से पुनर्गठित करने तथा गतिविधियों की योजना इस तरह से बनाने ताकि कक्षा में सभी विद्यार्थियों की भागीदारी सुनिश्चित हो और दूसरा विद्यालय में, विद्यार्थियों की विविधता को संबोधित करने हेतु व्यवहार हो।


स्व-मूल्यांकन:

. पाठ पढ़ाते समय विविध आवश्यकता वाले विद्यार्थियों की सहायता करने के लिए आप अपने शिक्षण विषय में जो भी परिवर्तन करेंगे, उन्हें सारांशित करें।


आपके विचार में जो सबसे महत्वपूर्ण है, उससे शुरू करते हुए इनकी प्राथमिकता


1.


2.


3.


शिक्षक के रूप में, उस समर्थन और मार्गदर्शन को पहचानें जो इन परिवर्तनों को करने में आपकी


मदद करेगा। ये बदलाव सभी बच्चों के लिए कैसे फायदेमंद हो सकते हैं? अपने विद्यालय में अन्य सहयोगियों के साथ अपने उत्तरों की तुलना करें और अपनी सूची में नये विचार जोड़ें। • मैं सभी बच्चों के लिए मूल्यांकन को कैसे सार्थक और समावेशी बनाऊँगा? अपनी सूची की तुलना अपने साथी से करें।




एन.सी.एफ. 2005 के अनुसार, मूल्यांकन का उद्देश्य नहीं है: 

बच्चों को भय के वातावरण में पढ़ने के लिए मजबूर करना। 'धीमा सीखने वाले विद्यार्थियों' या अव्वल आने वाले विद्यार्थियों' या 'समस्या वाले बच्चों के रूप में विद्यार्थियों को पहचानना या लेबल करना। ऐसी श्रेणियाँ बच्चों में अलगाव पैदा करती हैं और सीखने का दायित्व पूर्णतया बच्चों पर डालकर, उन्हें शिक्षा शास्त्र की भूमिका और उद्देश्य से अलग कर देती हैं।




समावेशी शिक्षा और आर.पी.डब्ल्यू.डी. अधिनियम, 2016


हाल ही में पारित आर.पी.डब्ल्यू.डी. अधिनियम, 2016 जिसे हिंदी में दिव्यांगजन अधिकार कानून, 2016 के रूप में भी जाना जाता है, समावेशी शिक्षा को परिभाषित करता है और इसे बढ़ावा देता है-

समावेशी शिक्षा का अर्थ, शिक्षा की एक ऐसी प्रणाली से है जिसमें सामान्य और विशेष आवश्यकता वाले विद्यार्थी एक साथ सीखते हैं और शिक्षण-अधिगम व्यवस्था को विशेष आवश्यकता वाले विद्यार्थियों की विभिन्न प्रकार की शिक्षण अधिगम की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए उपयुक्त रूप से अनुकूलित किया जाता है। (आर.पी.डब्ल्यू.डी. अधिनियम, 2016 का अनुच्छेद 1 एम)




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गणित सीखने-सिखाने का सही क्रम क्या होना चाहिए?

बच्चों के पास स्कूल आने से पहले गणित से सम्बन्धित अनेक अनुभव पास होते हैं बच्चों के तमाम खेल ऐसे जिनमें वे सैंकड़े से लेकर हजार तक का हिसाब रखते हैं। वे अपने खेलों में चीजों का बराबर बँटवारा कर लेते हैं।  अपनी चीजों का हिसाब रखते हैं। छोटा-बड़ा, कम-ज्यादा, आगे-पीछे, उपर-नीचे, समूह बनाना, तुलना करना, गणना करना, मुद्रा की पहचान, दूरी का अनुमान, घटना-बढ़ना जैसी तमाम अवधारणाओं से बच्चे परिचित होते हैं।  हम बच्चों को प्रतीक ही सिखाते हैं। उनके अनुभवों को प्रतीकों से जोड़ना महत्वपूर्ण है। गणित मूर्त और अमूर्त से जुड़ने और जूझने का प्रयास है अवधारणाएँ अमूर्त होती हैं चाहे विषय कोई भी हो।  गणितीय अमूर्तता को मूर्त, ठोस चीजों की मदद से सरल बनाया जा सकता है। जब मूर्त को अमूर्त से जोड़ा जाता है तो अमूर्त का अर्थ स्पष्ट हो जाता है।  प्रस्तुतीकरण के तरीकों से भी कई बार गणित अमूर्त प्रतीत होने लगता है। शुरुआती दिनों में गणित सीखने में ठोस वस्तुओं की भूमिका अहम होती है इस उम्र में बच्चे स्वाभाविक तौर पर तरह-तरह की चीजों से खेलते हैं, उन्हें जमाते. बिगाड़ते और फिर से जमाते हैं।  इस प्रक्रिया में उनकी

सीखने के प्रतिफल, शिक्षण-विधियाँ, समावेशी शिक्षा में आ शिक्षकों की भूमिका

रा.शै.अ.प्र.प. ने सीखने के प्रतिफल को विकसित किया है जो पठन सामग्री को रटकर याद करने पर आधारित मूल्यांकन से दूर हटाने के लिए बनाया गया है।  योग्यता (सीखने के प्रतिफल) आधारित मूल्यांकन पर जोर देकर, शिक्षकों और पूरी व्यवस्था को यह समझने में मदद की गई है कि बच्चे ज्ञान, कौशल और सामाजिक-व्यक्तिगत गुणों और दृष्टिकोणों में परिवर्तन के मामले में वर्ष के दौरान एक विशेष कक्षा में क्या हासिल करेंगे।  सीखने के प्रतिफल ज्ञान और कौशल से परिपूर्ण ऐसे कथन हैं जिन्हें बच्चों को एक विशेष कक्षा या पाठ्यक्रम के अंत तक प्राप्त करने की आवश्यकता है और यह अधिगम संवर्धन की उन शिक्षणशास्त्रीय विधियों से समर्थित हैं जिनका क्रियान्वयन शिक्षकों द्वारा करने की आवश्यकता है।  ये कथन प्रक्रिया आधारित हैं और समग्र विकास के पैमाने पर बच्चे की प्रगति का आकलन करने के लिए गुणात्मक या मात्रात्मक दोनों तरीके से जाँच योग्य बिंदु प्रदान करते हैं। पर्यावरणीय अध्ययन के लिए सीखने के दो प्रतिफल नीचे दिए गए हैं। . विद्यार्थी विभिन्न आयुवर्ग के लोगों, जानवरों और पक्षियों में भोजन तथा पानी की आवश्यकता, भोजन और पानी की उपलब्धता तथा घ

गणित में जोड़ शिक्षण के तरीके और गतिविधियां, देखें गतिविधियों के माध्यम से

गणित सीखने-सिखाने के परम्परागत तरीकों में गणित सीखने की प्रक्रिया की लगातार होती गयी है और धीरे-धीरे वह परिणाम आधारित हो गयी।  आप भी अपनी कक्षा में यही सब नहीं कर रहे हैं? कैसा माहौल रहता है आपकी गणित की कक्षा में? इसी माहौल से गुजर कर आपके सवालों के सही जवाब भी देने लगते होंगे।  पर क्या आपने जानने की कोशिश की कि ने सही जवाब देने के लिए किस प्रक्रिया को अपनाया? एक साधारण जोड़ को बच्चे ने इस प्रकार किया।   यहाँ विचार करें तो आप पाते हैं कि पहले प्रश्न को बच्चे ने सही हल किया परन्तु दूसरे शल में वही प्रक्रिया अपनाने के बाद भी क्यों उसका उत्तर सही नहीं हैं? क्या हमारी लक्ष्य केवल इतना है कि बच्चा जोड़ना सीख लें? या उसमें जोड़ करने की प्रक्रिया की समझ भी विकसित करनी है वास्तव में जोड़ की समझ के विकास में निहित है। दो या अधिक वस्तुओं या चीजों को एक साथ मिलने से परिणाम के रूप में वस्तुओं की संख्या का बढ़ना। स्थानीय मान का शामिल होना। . यह समझना है कि हासिल अर्थात जोड़ की क्रिया में परिणाम दस या अधिक होने पर दहाई की संख्या अपने बायें स्थित दहाइयों में जुड़ती हैं जिसे हासिल समझा जाता है। . परि

विद्यालयों में सहशैक्षिक गतिविधियों को कैसे क्रियान्वित करें?

प्रारम्भिक विद्यालयों में सह शैक्षिक गतिविधियों के आयोजन में प्रधानाध्यापक एवं अध्यापक की भूमिका को निम्नवत् देखा जा सकता है।  • विद्यालयों में सहशैक्षिक गतिविधियों को कैसे क्रियान्वित करें, इसके बारे में परस्पर चर्चा करना तथा आवश्यक सहयोग प्रदान करते हुए निरंतर संवाद बनाये रखना। क्रियाकलापों का अनुश्रवण करना तथा आयी हुई समस्याओं का निराकरण सभी की सहभागिता द्वारा करना। इन क्रियाकलापों में बालिकाओं की सहभागिता अधिक से अधिक हो साथ ही साथ सभी छात्रों की प्रतिभागिता सुनिश्चित हो, इस हेतु सामूहिक जिम्मेदारी लेना।। • समय सारिणी में खेलकूद/ पीटी,ड्राइंग, क्राफ्ट, संगीत, सिलाई/बुनाई व विज्ञान के कार्यों प्रतियोगिताएं हेतु स्थान व वादन को सुनिश्चित करना।  • स्कूलों में माहवार/त्रैमासिक कितनी बार किस प्रकार की प्रतियोगिताएं कराई गई, इसकी जानकारी प्राप्त करना एवं रिकार्ड करना। बच्चों के स्तर एवं रुचि के अनुसार कहानियां, चुटकुले, कविता आदि का संकलन स्वयं करना तथा बच्चों से कराना।  • विज्ञान/गणित सम्बन्धी प्रतियोगिताओं हेतु विषय से सम्बन्धित प्रश्न बैंक रखना। आवश्यक वस्तुओं का संग्रह रखना। जन सहभाग

निष्ठा FLN प्रशिक्षण, उत्तर प्रदेश All 12 Module Re-Launch

 *निष्ठा FLN प्रशिक्षण, उत्तर प्रदेश*  *All 12 Module Re-Launch*  Start Date : *01 April 2022*     End Date:    *31 May 2022* *सभी छूटे/अपूर्ण प्रशिक्षण अनिवार्य रूप से पूर्ण करें*  BSA, DIET प्राचार्य, BEO, KRP, SRG, ARP, DIET मेंटर, शिक्षक संकुल, निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर एवं अन्य सभी सदस्य कृपया ध्यान दें: जैसा की आप अवगत है कि, निष्ठा प्रशिक्षण प्रदेश में 15 october 2021 से  दीक्षा पोर्टल के माध्यम से शुरू किया गया  है ।  इसी क्रम मे  *01 April 2022 से 31 March 2022 तक सभी 12 मॉड्यूल्स दोबारा Live किए जा रहें हैं,* सभी BSA, DIET प्राचार्य, BEO, SRG, KRP, ARP, DIET मेंटर एवं निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर इस अनिवार्य प्रशिक्षण से सभी छूटे शिक्षकों को जोड़ना सहुनिश्चित करें |  ऐसे और पोस्ट देखने के लिए और Eduleaders UP से जुड़ने के लिए क्लिक करें 👇👇 https://kutumbapp.page.link/wcno7npkNiu37ycT8 प्रशिक्षण से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियाँ निम्वत है- Module 1 https://diksha.gov.in/learn/course/do_31350640194554265614601 Module 2 https://diksha.gov.in/learn/course/do_313506414403559424

निष्ठा FLN प्रशिक्षण : Module 11,12 (दीक्षा Link)

 *निष्ठा FLN प्रशिक्षण, उत्तर प्रदेश*  *Module 11 & 12 Launch*  Start Date : *1 March 2022*     End Date:    *31 March 2022* BSA, DIET प्राचार्य, BEO, KRP, SRG, ARP, DIET मेंटर, शिक्षक संकुल, निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर एवं अन्य सभी सदस्य कृपया ध्यान दें: जैसा की आप अवगत है कि, निष्ठा FLN प्रशिक्षण प्रदेश में 15 October 2021 से  दीक्षा पोर्टल के माध्यम से शुरू किया गया है ।  इसी क्रम मे *Module 11 एवं 12, 1 March 2022 से Live* किये जा रहें हैं, सभी BSA, DIET प्राचार्य, BEO, SRG, KRP, ARP, DIET मेंटर एवं निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर *इस अनिवार्य प्रशिक्षण से सभी प्राथमिक विद्यालयों एवं कंपोज़िट विद्यालयों के कक्षा 1 से 5 तक के शिक्षकों को जोड़ना सुनिश्चित करें*|  *प्रशिक्षण से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियाँ निम्वत है-*   *Module 11 (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/explore-course/course/do_31348436997064294412994 *   *Module 12  (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/explore-course/course/do_31348437328270950412789 *   *Important Note-*   *1.* प्रशिक्षण से पहले सभी users अपना दीक्षा

सामुदायिक सहयोग हेतु कार्य-योजना निर्माण कैसे करें?

विद्यालय प्रबंध समिति (SMC) के सदस्य विद्यालय और समुदाय के बीच प्रमुख सेतु हं भूमिका निभा सकते हैं। इसके लिए व्यक्तिगत स्तर पर प्रत्येक विद्यालय को एस०एम०सी0 सहयोग से सामुदायिक सहयोग की कार्य योजना विकसित करनी होगी। कार्य योजना के संभावित क्षेत्र निम्नवत हो सकते हैं। (अ) भौतिक संसाधन-चहारदिवारी, पंखा, फर्नीचर, स्टेशनरी, पेयजल, स्मार्ट बोर्ड, शैक्षिक तकनीकी से संबंधित उपकरण आदि। (ब) मानवीय संसाधन-सामुदायिक संसाधनों का कक्षा-कक्षीय एवं अन्य सहशैक्षिक क्रियाकलाप में उपयोग।  उक्त बिन्दुओं के परिप्रेक्ष्य में हमें अपनी संस्था उपलब्ध भौतिक / मानवीय संसाधनों की उपलब्धता की समीक्षा करने के बाद विद्यालय की आवश्यकताओं का चिह्नांकन करना होगा तदुपरान्त उन आवश्यकताओं का वर्गीकरण करते हुए सामुदायिक सहभागिता के प्रकार को स्पष्ट रूप से रेखांकित करते हुए समुदाय से संपर्क स्थापित करना होगा।  इस प्रकार आवश्यकताओं के अनुसार संदर्भों/ स्रोतों की मदद लेते हुए कार्य योजना विकसित कर हम अपने कार्य को और बेहतर बना सकते हैं तथा समुदाय से बेहतर जुड़ाव स्थापित कर सकते हैं ।             सामुदायिक सहयोग की कार्य योज

समावेशी शिक्षा क्या है? समावेशी शिक्षा की विशेषताएं एवं रिपोटिंग/डाक्युमेन्टेशन

कक्षा में बच्चों के साथ कार्य करते हुए आपने अनुभव किया होगा कि हर बच्चा स्वयं में कोई न कोई विशिष्टता एवं विविधता लिए होता है । उनके रुचि और रुझानों में भी यह विविधता पाई जाती है।  यह विविधता काफी हद तक उनके परिवेश एवं परिस्थितियों के कारण या शारीरिक आकार प्रकार से प्रभावित होती है। बच्चों में इस विविधता के कारण कुछ खास श्रेणियाँ उभरकर आती हैं। जैसे- तेज/धीमी गति से सीखने वाले, शारीरिक कारणों से सीखने में बाधा अनुभव करने वाले बच्चे, परिवेशीय व लैंगिक विविधता वाले बच्चे।  इनमें कुछ और श्रेणियाँ भी जुड़ सकती हैं। शिक्षक के रूप में इतनी विविधता से भरे बच्चों को हमें कक्षा के भीतर सीखने का समावेशी वातावरण देना होता है। समावेशी शिक्षा अर्थात् ऐसी शिक्षा जो सबके लिए हो। विद्यालय में विविधताओं से भरे सभी प्रकार के बच्चों को एक साथ एक कक्षा में शिक्षा देना ही समावेशी शिक्षा है। समावेशी शिक्षा से तात्पर्य है वह शिक्षा जिसमें किसी एक विशेष व्यक्ति श्रेणी पर निर्भर न होकर सभी को शामिल किया जाता है । "समावेशन शब्द का अपने-आप में कुछ खास अर्थ नहीं होता है। समावेशन के चारों ओर जो वैचारिक, दार्

आकलन प्रपत्र का निर्माण कैसे करें? देखें कक्षा- 1 गणित का सैम्पल प्रपत्र

आकलन प्रपत्र का निर्माण बच्चों के स्तर को जानने के लिए किया जाता है, जिससे आगामी शिक्षण योजना का निर्माण किया जा सके। प्रारंभिक आकलन के पश्चात ही शिक्षण योजना के अनुसार कार्य प्रारंभ करना चाहिए।  

प्री-प्राइमरी के बच्चों को पढ़ाने के लिए शिक्षक एवं शिक्षामित्र होंगे प्रशिक्षित, पढ़े विस्तृत जानकारी

कुशीनगर:  प्री-प्राइमरी के बच्चों को पढ़ाने के लिए जिले के कक्षा पांच तक के परिषदीय स्कूलों के शिक्षक व शिक्षामित्रों को प्रशिक्षित किया जायेगा निपुण भारत मिशन के तहत बीआरसी वार प्रशिक्षण शिविर आयोजित कर उन्हें ट्रेंड किया जायेगा। इन्हें प्रशिक्षित करने के लिए जिले में तैनात सभी 70 एआरपी को प्रशिक्षक नियुक्त किया गया है। फरवरी के प्रथम सप्ताह से बीआरसी पर प्रशिक्षण शुरू होगा। समग्र शिक्षा अभियान के तहत बच्चों में बुनियादी भाषा व गणित में कौशल विकास के लिए प्राथमिक विद्यालय में तैनात सभी शिक्षक व शिक्षामित्रों को फाउंडेशनल लिटरेसी एवं न्यूमरेसी एफएलएन अधारित प्रशिक्षण दिया जायेगा।  मिशन प्रेरणा के द्वितीय चरण के निपुण भारत मिशन के तहत शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जायेगा।  प्रत्येक ब्लॉक में 2 से 3 बैच बनाकर प्रशिक्षित किया जायेगा। चार दिवसीय प्रशिक्षण के दौरान शिक्षकों को भोजन व नास्ता के साथ प्रशिक्षण में सहायक सामग्री प्रदान की जायेगी। इसके लिए टेंडर की प्रक्रिया पूरी की जा रही है।  जिले के प्राथमिक स्तर के 6200 शिक्षक व 2300 शिक्षामित्रों को बैचवार प्रशिक्षित किया जायेगा। उन्हे