सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

"LOVE YOU ALL" वाली शिक्षिका की कहानी

एक प्राथमिक स्कूल मे अंजली नाम की एक शिक्षिका थीं वह कक्षा 5 की क्लास टीचर थी, उसकी एक आदत थी कि वह कक्षा मे आते ही हमेशा "LOVE YOU ALL" बोला करतीं थी।


.

मगर वह जानती थीं कि वह सच नहीं बोल रही । 

वह कक्षा के सभी बच्चों से एक जैसा प्यार नहीं करती थीं।

कक्षा में एक ऐसा बच्चा था जो उनको फटी आंख भी नहीं भाता था। उसका नाम राजू था। राजू मैली कुचेली स्थिति में स्कूल आ जाया करता है। उसके बाल खराब होते, जूतों के बन्ध खुले, शर्ट के कॉलर पर मेल के निशान । पढ़ाई के दौरान भी उसका ध्यान कहीं और होता था।

.

मेडम के डाँटने पर वह चौंक कर उन्हें देखता, मगर उसकी खाली खाली नज़रों से साफ पता लगता रहता.कि राजू शारीरिक रूप से कक्षा में उपस्थित होने के बावजूद भी मानसिक रूप से गायब हे यानी 

(प्रजेंट बाडी अफसेटं माइंड) .धीरे धीरे मेडम को राजू से नफरत सी होने लगी। क्लास में घुसते ही राजू मेडम की आलोचना का निशाना बनने लगता। सब बुराई उदाहरण राजू के नाम पर किये जाते. बच्चे उस पर खिलखिला कर हंसते.और मेडम उसको अपमानित कर के संतोष प्राप्त करतीं। 

राजू ने हालांकि किसी बात का कभी कोई जवाब नहीं दिया था।


मेडम को वह एक बेजान पत्थर की तरह लगता जिसके अंदर आत्मा नाम की कोई चीज नहीं थी। प्रत्येक डांट, व्यंग्य और सजा के जवाब में वह बस अपनी भावनाओं से खाली नज़रों से उन्हें देखा करता और सिर झुका लेता। मेडम को अब इससे गंभीर नफरत हो चुकी थी।

.

पहला सेमेस्टर समाप्त हो गया और प्रोग्रेस रिपोर्ट बनाने का चरण आया तो मेडम ने राजू की प्रगति रिपोर्ट में यह सब बुरी बातें लिख मारी । प्रगति रिपोर्ट माता पिता को दिखाने से पहले हेड मास्टर के पास जाया करती थी। उन्होंने जब राजू की प्रोग्रेस रिपोर्ट देखी तो मेडम को बुला लिया। "मेडम प्रगति रिपोर्ट में कुछ तो राजू की प्रगति भी लिखनी चाहिए। आपने तो जो कुछ लिखा है इससे राजू के पिता इससे बिल्कुल निराश हो जाएंगे।" मेडम ने कहा "मैं माफी माँगती हूँ, लेकिन राजू एक बिल्कुल ही अशिष्ट और निकम्मा बच्चा है । मुझे नहीं लगता कि मैं उसकी प्रगति के बारे में कुछ लिख सकती हूँ। "मेडम घृणित लहजे में बोलकर वहां से उठ कर चली गई स्कूल की छुट्टी हो गई आज तो ।

.

अगले दिन हेड मास्टर ने एक विचार किया ओर उन्होंने चपरासी के हाथ मेडम की डेस्क पर राजू की पिछले वर्षों की प्रगति रिपोर्ट रखवा दी । अगले दिन मेडम ने कक्षा में प्रवेश किया तो रिपोर्ट पर नजर पड़ी। पलट कर देखा तो पता लगा कि यह राजू की रिपोर्ट हैं। " मेडम ने सोचा कि पिछली कक्षाओं में भी राजू ने निश्चय ही यही गुल खिलाए होंगे।" उन्होंने सोचा और कक्षा 3 की रिपोर्ट खोली। रिपोर्ट में टिप्पणी पढ़कर उनकी आश्चर्य की कोई सीमा न रही जब उन्होंने देखा कि रिपोर्ट उसकी तारीफों से भरी पड़ी है। "राजू जैसा बुद्धिमान बच्चा मैंने आज तक नहीं देखा।" "बेहद संवेदनशील बच्चा है और अपने मित्रों और शिक्षक से बेहद लगाव रखता है।" " 

.

यह लिखा था

अंतिम सेमेस्टर में भी राजू ने प्रथम स्थान प्राप्त कर लिया है। "मेडम ने अनिश्चित स्थिति में कक्षा 4 की रिपोर्ट खोली।" राजू ने अपनी मां की बीमारी का बेहद प्रभाव लिया। .उसका ध्यान पढ़ाई से हट रहा है। "" राजू की माँ को अंतिम चरण का कैंसर हुआ है। । घर पर उसका और कोई ध्यान रखनेवाला नहीं है.जिसका गहरा प्रभाव उसकी पढ़ाई पर पड़ा है। 

.

" लिखा था

निचे हेड मास्टर ने लिखा कि राजू की माँ मर चुकी है और इसके साथ ही राजू के जीवन की चमक और रौनक भी। । उसे बचाना होगा...इससे पहले कि बहुत देर हो जाए। " यह पढ़कर मेडम के दिमाग पर भयानक बोझ हावी हो गया। कांपते हाथों से उन्होंने प्रगति रिपोर्ट बंद की । मेडम की आखो से आंसू एक के बाद एक गिरने लगे. मेडम ने साङी से अपने आंसू पोछे

अगले दिन जब मेडम कक्षा में दाख़िल हुईं तो उन्होंने अपनी आदत के अनुसार अपना पारंपरिक वाक्यांश "आई लव यू ऑल" दोहराया। 

.

मगर वह जानती थीं कि वह आज भी झूठ बोल रही हैं। क्योंकि इसी क्लास में बैठे एक उलझे बालों वाले बच्चे राजू के लिए जो प्यार वह आज अपने दिल में महसूस कर रही थीं..वह कक्षा में बैठे और किसी भी बच्चे से अधिक था ।

पढ़ाई के दौरान उन्होंने रोजाना दिनचर्या की तरह एक सवाल राजू पर दागा और हमेशा की तरह राजू ने सिर झुका लिया। जब कुछ देर तक मेडम से कोई डांट फटकार और सहपाठी सहयोगियों से हंसी की आवाज उसके कानों में न पड़ी तो उसने अचंभे में सिर उठाकर मेडम की ओर देखा। अप्रत्याशित उनके माथे पर आज बल न थे, वह मुस्कुरा रही थीं। उन्होंने राजू को अपने पास बुलाया और उसे सवाल का जवाब बताकर जबरन दोहराने के लिए कहा। राजू तीन चार बार के आग्रह के बाद अंतत:बोल ही पड़ा। इसके जवाब देते ही मेडम ने न सिर्फ खुद खुशान्दाज़ होकर तालियाँ बजाईं बल्कि सभी बच्चो से भी बजवायी..

.

फिर तो यह दिनचर्या बन गयी।मेडम हर सवाल का जवाब अपने आप बताती और फिर उसकी खूब सराहना तारीफ करतीं। प्रत्येक अच्छा उदाहरण राजू के कारण दिया जाने लगा । धीरे-धीरे पुराना राजू सन्नाटे की कब्र फाड़ कर बाहर आ गया। अब मेडम को सवाल के साथ जवाब बताने की जरूरत नहीं पड़ती। वह रोज बिना त्रुटि उत्तर देकर सभी को प्रभावित करता और नये नए सवाल पूछ कर सबको हैरान भी करता ।

.

उसके बाल अब कुछ हद तक सुधरे हुए होते, कपड़े भी काफी हद तक साफ होते जिन्हें शायद वह खुद धोने लगा था। देखते ही देखते साल समाप्त हो गया और राजू ने दूसरा स्थान हासिल कर कक्षा 5 वी पास कर लिया यानी अब दुसरी जगह स्कूल मे दाखिले के लिए तैयार था।

.

कक्षा 5 वी के विदाई समारोह में सभी बच्चे मेडम के लिये सुंदर उपहार लेकर आए और मेडम की टेबल पर ढेर लग गया । इन खूबसूरती से पैक हुए उपहारो में एक पुराने अखबार में बदतर सलीके से पैक हुआ एक उपहार भी पड़ा था। बच्चे उसे देखकर हंस रहे थे । किसी को जानने में देर न लगी कि यह उपहार राजू लाया होगा। मेडम ने उपहार के इस छोटे से पहाड़ में से लपक कर राजू वाले उपहार को निकाला। खोलकर देखा तो उसके अंदर एक महिलाओं द्वारा इस्तेमाल करने वाली इत्र की आधी इस्तेमाल की हुई शीशी और एक हाथ में पहनने वाला एक बड़ा सा कड़ा कंगन था जिसके ज्यादातर मोती झड़ चुके थे। मिस ने चुपचाप इस इत्र को खुद पर छिड़का और हाथ में कंगन पहन लिया। बच्चे यह दृश्य देखकर सब हैरान रह गए। खुद राजू भी। आखिर राजू से रहा न गया और मिस के पास आकर खड़ा हो गया। ।

.

कुछ देर बाद उसने अटक अटक कर मेडम को बोला "आज आप में से मेरी माँ जैसी खुशबू आ रही है।" इतना सुनकर मेडम के आखो मे आसू आ गये ओर मेडम ने राजू को अपने गले से लगा लिया

राजू अब दुसरी स्कूल मे जाने वाला था

राजू ने दुसरी जगह स्कूल मे दाखिले ले लिया था

समय बितने लगा।

दिन सप्ताह,

सप्ताह महीने और महीने साल में बदलते भला कहां देर लगती है?

मगर हर साल के अंत में मेडम को राजू से एक पत्र नियमित रूप से प्राप्त होता जिसमें लिखा होता कि "इस साल कई नए टीचर्स से मिला।। मगर आप जैसा मेडम कोई नहीं था।"

.

फिर राजू की पढ़ाई समाप्त हो गया और पत्रों का सिलसिला भी सम्माप्त । कई साल आगे गुज़रे और मेडम रिटायर हो गईं।

एक दिन मेडम के घर अपनी मेल में राजू का पत्र मिला जिसमें लिखा था:

"इस महीने के अंत में मेरी शादी है और आपके बिना शादी की बात मैं नहीं सोच सकता। एक और बात .. मैं जीवन में बहुत सारे लोगों से मिल चुका हूं।। आप जैसा कोई नहीं है.........आपका डॉक्टर राजू

.

पत्र मे साथ ही विमान का आने जाने का टिकट भी लिफाफे में मौजूद था।

मेडम खुद को हरगिज़ न रोक सकी। उन्होंने अपने पति से अनुमति ली और वह राजू के शहर के लिए रवाना हो गईं। शादी के दिन जब वह शादी की जगह पहुंची तो थोड़ी लेट हो चुकी थीं।

.

उन्हें लगा समारोह समाप्त हो चुका होगा.. मगर यह देखकर उनके आश्चर्य की सीमा न रही कि शहर के बड़े डॉक्टर , बिजनेसमैन और यहां तक कि वहां पर शादी में बाकी मेहमान भी थक गये थे. कि आखिर कौन आना बाकी है...मगर राजू समारोह में शादी के मंडप के बजाय गेट की तरफ टकटकी लगाए उनके आने का इंतजार कर रहा था। फिर सबने देखा कि जैसे ही एक बुड्ढी ओरत ने गेट से प्रवेश किया राजू उनकी ओर लपका और उनका वह हाथ पकड़ा जिसमें उन्होंने अब तक वह कड़ा पहना हुआ था कंगन पहना हुआ था और उन्हें सीधा मंच पर ले गया।

.

राजू ने माइक हाथ में पकड़ कर कुछ यूं बोला "दोस्तों आप सभी हमेशा मुझसे मेरी माँ के बारे में पूछा करते थे और मैं आप सबसे वादा किया करता था कि जल्द ही आप सबको उनसे मिलाउंगा।।।........ 

ध्यान से देखो यह यह मेरी प्यारी सी मा दुनिया की सबसे अच्छी है यह मेरी मा यह मेरी माँ हैं -

.

!! प्रिय दोस्तों.... इस सुंदर कहानी को सिर्फ शिक्षक और शिष्य के रिश्ते के कारण ही मत सोचिएगा । अपने आसपास देखें, राजू जैसे कई फूल मुरझा रहे हैं जिन्हें आप का जरा सा ध्यान, प्यार और स्नेह नया जीवन दे सकता है...........👍

*LOKESH KUMAR SAHU*

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गणित सीखने-सिखाने का सही क्रम क्या होना चाहिए?

बच्चों के पास स्कूल आने से पहले गणित से सम्बन्धित अनेक अनुभव पास होते हैं बच्चों के तमाम खेल ऐसे जिनमें वे सैंकड़े से लेकर हजार तक का हिसाब रखते हैं। वे अपने खेलों में चीजों का बराबर बँटवारा कर लेते हैं।  अपनी चीजों का हिसाब रखते हैं। छोटा-बड़ा, कम-ज्यादा, आगे-पीछे, उपर-नीचे, समूह बनाना, तुलना करना, गणना करना, मुद्रा की पहचान, दूरी का अनुमान, घटना-बढ़ना जैसी तमाम अवधारणाओं से बच्चे परिचित होते हैं।  हम बच्चों को प्रतीक ही सिखाते हैं। उनके अनुभवों को प्रतीकों से जोड़ना महत्वपूर्ण है। गणित मूर्त और अमूर्त से जुड़ने और जूझने का प्रयास है अवधारणाएँ अमूर्त होती हैं चाहे विषय कोई भी हो।  गणितीय अमूर्तता को मूर्त, ठोस चीजों की मदद से सरल बनाया जा सकता है। जब मूर्त को अमूर्त से जोड़ा जाता है तो अमूर्त का अर्थ स्पष्ट हो जाता है।  प्रस्तुतीकरण के तरीकों से भी कई बार गणित अमूर्त प्रतीत होने लगता है। शुरुआती दिनों में गणित सीखने में ठोस वस्तुओं की भूमिका अहम होती है इस उम्र में बच्चे स्वाभाविक तौर पर तरह-तरह की चीजों से खेलते हैं, उन्हें जमाते. बिगाड़ते और फिर से जमाते हैं।  इस प्रक्रिया में उनकी

निष्ठा FLN प्रशिक्षण 2021: Module 05 & 06 Launch End Date: 31 December 2021

 *निष्ठा FLN प्रशिक्षण 2021, उत्तर प्रदेश*  *Module 05 & 06 Launch*  Start Date : *1 December 2021*     End Date:    *31 December 2021* BSA, DIET प्राचार्य, BEO, KRP, SRG, ARP, DIET मेंटर, शिक्षक संकुल, निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर एवं अन्य सभी सदस्य कृपया ध्यान दें: जैसा की आप अवगत है कि, निष्ठा FLN प्रशिक्षण प्रदेश में 15 October 2021 से  दीक्षा पोर्टल के माध्यम से शुरू किया गया है ।  इसी क्रम मे *Module 05 एवं 06, 1 December 2021 से Live* किये जा रहें हैं, सभी BSA, DIET प्राचार्य, BEO, SRG, KRP, ARP, DIET मेंटर एवं निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर *इस अनिवार्य प्रशिक्षण से सभी प्राथमिक विद्यालयों एवं कंपोज़िट विद्यालयों के कक्षा 1 से 5 तक के शिक्षकों को जोड़ना सुनिश्चित करें*|  *प्रशिक्षण से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियाँ निम्वत है-*   *Module 5 (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/learn/course/do_31342093148966092812490 *   *Module 6  (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/learn/course/do_31342092885229568012347 *   *Important Note-*   *1.* प्रशिक्षण से पहले सभी users अपना दीक्षा ऐप pl

समावेशी शिक्षा क्या है? समावेशी शिक्षा की विशेषताएं एवं रिपोटिंग/डाक्युमेन्टेशन

कक्षा में बच्चों के साथ कार्य करते हुए आपने अनुभव किया होगा कि हर बच्चा स्वयं में कोई न कोई विशिष्टता एवं विविधता लिए होता है । उनके रुचि और रुझानों में भी यह विविधता पाई जाती है।  यह विविधता काफी हद तक उनके परिवेश एवं परिस्थितियों के कारण या शारीरिक आकार प्रकार से प्रभावित होती है। बच्चों में इस विविधता के कारण कुछ खास श्रेणियाँ उभरकर आती हैं। जैसे- तेज/धीमी गति से सीखने वाले, शारीरिक कारणों से सीखने में बाधा अनुभव करने वाले बच्चे, परिवेशीय व लैंगिक विविधता वाले बच्चे।  इनमें कुछ और श्रेणियाँ भी जुड़ सकती हैं। शिक्षक के रूप में इतनी विविधता से भरे बच्चों को हमें कक्षा के भीतर सीखने का समावेशी वातावरण देना होता है। समावेशी शिक्षा अर्थात् ऐसी शिक्षा जो सबके लिए हो। विद्यालय में विविधताओं से भरे सभी प्रकार के बच्चों को एक साथ एक कक्षा में शिक्षा देना ही समावेशी शिक्षा है। समावेशी शिक्षा से तात्पर्य है वह शिक्षा जिसमें किसी एक विशेष व्यक्ति श्रेणी पर निर्भर न होकर सभी को शामिल किया जाता है । "समावेशन शब्द का अपने-आप में कुछ खास अर्थ नहीं होता है। समावेशन के चारों ओर जो वैचारिक, दार्

विद्यालयों में सहशैक्षिक गतिविधियों को कैसे क्रियान्वित करें?

प्रारम्भिक विद्यालयों में सह शैक्षिक गतिविधियों के आयोजन में प्रधानाध्यापक एवं अध्यापक की भूमिका को निम्नवत् देखा जा सकता है।  • विद्यालयों में सहशैक्षिक गतिविधियों को कैसे क्रियान्वित करें, इसके बारे में परस्पर चर्चा करना तथा आवश्यक सहयोग प्रदान करते हुए निरंतर संवाद बनाये रखना। क्रियाकलापों का अनुश्रवण करना तथा आयी हुई समस्याओं का निराकरण सभी की सहभागिता द्वारा करना। इन क्रियाकलापों में बालिकाओं की सहभागिता अधिक से अधिक हो साथ ही साथ सभी छात्रों की प्रतिभागिता सुनिश्चित हो, इस हेतु सामूहिक जिम्मेदारी लेना।। • समय सारिणी में खेलकूद/ पीटी,ड्राइंग, क्राफ्ट, संगीत, सिलाई/बुनाई व विज्ञान के कार्यों प्रतियोगिताएं हेतु स्थान व वादन को सुनिश्चित करना।  • स्कूलों में माहवार/त्रैमासिक कितनी बार किस प्रकार की प्रतियोगिताएं कराई गई, इसकी जानकारी प्राप्त करना एवं रिकार्ड करना। बच्चों के स्तर एवं रुचि के अनुसार कहानियां, चुटकुले, कविता आदि का संकलन स्वयं करना तथा बच्चों से कराना।  • विज्ञान/गणित सम्बन्धी प्रतियोगिताओं हेतु विषय से सम्बन्धित प्रश्न बैंक रखना। आवश्यक वस्तुओं का संग्रह रखना। जन सहभाग

लर्निंग आउटकम एवं आकलन

आप भली भांति अवगत हैं कि विद्यालयीय पाठ्यक्रम का निर्धारण एवं पाठ्यपुस्तकों/ कार्यपुस्तिकाओं का निर्माण विभिन्न कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए निर्धारित दक्षताओं के विकास क ध्यान में रखकर किया गया है।  शिक्षक पाठ्यपुस्तकों/कार्यपुस्तिका व अन्य शिक्षण सहायक सामग्र के माध्यम से अपनी कक्षा-शिक्षण गतिविधियों को संचालित करते हैं।  वास्तव में कक्षा शिक्षण के उपरान्त सबसे महत्वपूर्ण एवं व्यावहारिक पक्ष यह है कि क्या बच्चे उन दक्षताओं को प्राप्त कर रहे हैं अथवा नहीं। लर्निंग आउटकम (अधिगम सम्बन्धी परिणाम): लर्निंग आउटकम इसी बात पर बल देते हैं कि मात्र शिक्षक ही नहीं अपितु अभिभावक भी य जानें कि उनका बच्चा जिस कक्षा में है, उस कक्षा के विभिन्न विषयों में उसे क्या-क्या ज्ञान होन चाहिए और क्या-क्या ज्ञान उसने अर्जित कर लिया है। 'लर्निंग आउटकम (अधिगम सम्बन्धी परिणाम ) से आशय उन परिणामों (दक्षताओं) से है जो किसी कक्षा में अध्ययनरत विद्यार्थियों को उनके निर्धारित पाठ्यक्रम के अनुरूप अपेक्षित दक्षताओं के प्राप्त होने पर परिलक्षित होते हैं। यह एक 'परिणाम आधारित लक्ष्य है' जो कि बच्चे की प्र

UPTET Hindi Practice Set 3: यूपीटीईटी परीक्षा में शामिल होने से पूर्व, हिंदी भाषा के इन प्रश्नों पर एक नजर अवश्य डालें

 UPTET Hindi Practice Set) : उत्तर प्रदेश में सरकारी शिक्षकों की भर्ती के लिए उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन बोर्ड (UPBEB) 28 नवंबर 2021 को UPTET परीक्षा आयोजित करने जा रहा है, यह परीक्षा ऑफलाइन होगी जिसके एडमिट कार्ड (Admit Card) ऑफिशियल वेबसाइट updeled.gov.in पर जारी कर दिए गए हैं।  यदि आप भी यूपी टेट परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं, तो इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके बेहद काम की है।  यूपीटीईटी पेपर 1 तथा पेपर 2 में हिंदी भाषा एक ऐसा विषय है जहां से बहुत आसानी से अच्छे अंक हासिल किए जा सकते हैं।   इसीलिए यहां हमने एग्जाम पैटर्न पर आधारित “हिंदी भाषा” के संभावित सवाल का प्रैक्टिस सेट भाग 3 शेयर किया है जो आपको परीक्षा में अच्छे अंक हासिल करने में कारगर साबित होगा इससे पहले हम UPTET परीक्षा के हिंदी अनुभाग हेतु प्रैक्टिस सेट 1 तथा 2 लेकर आ चुके हैं।  आपको बताते चलें कि UPTET परीक्षा 2021 में दो पेपर लिए जाएंगे हैं कक्षा 1 से 5 तक के छात्रों को पढ़ाने की इच्छा रखने वाले अभ्यर्थियों को UPTET पेपर 1 पास करना होता है तो वही कक्षा 6 से 8 के विद्यार्थियों को पढ़ाने के के लिए पेपर 2 पास

निष्ठा FLN प्रशिक्षण Module 03, 04 Launch 30 November 2021 तक करें पूर्ण

 *निष्ठा FLN प्रशिक्षण 2021, उत्तर प्रदेश*  *Module 03, 04 Launch*  Start Date : *1 November 2021*     End Date:    *30 November 2021* BSA, DIET प्राचार्य, BEO, KRP, SRG, ARP, DIET मेंटर, शिक्षक संकुल, निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर एवं अन्य सभी सदस्य कृपया ध्यान दें: जैसा की आप अवगत है कि, निष्ठा FLN प्रशिक्षण प्रदेश में 15 october 2021 से  दीक्षा पोर्टल के माध्यम से शुरू किया जा रहा  है ।  इसी क्रम मे *Module 03 एवं 04, 1 November 2021 से Live* किये जा रहें हैं, सभी BSA, DIET प्राचार्य, BEO, SRG, KRP, ARP, DIET मेंटर एवं निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर *इस अनिवार्य प्रशिक्षण से सभी प्राथमिक विद्यालयों एवं कंपोज़िट विद्यालयों के कक्षा 1 से 5 तक के शिक्षकों को जोड़ना सुनिश्चित करें*|  *प्रशिक्षण से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियाँ निम्वत है-*   *Module 3 (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/learn/course/do_31339962349061734411775 *   *Module 4  (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/learn/course/do_3133996453859491841430 *   *Important Note-*   *1.* प्रशिक्षण से पहले सभी users अपना दीक्षा ऐप play

CTET/UPTET 2021 Inclusive Education-समावेशी शिक्षा के महत्वपूर्ण सवाल जो टीईटी परीक्षा मे पूछे जाते है, अभी देखें

 UPTET 2021 (Inclusive Education): शिक्षक बनने के लिए CTET तथा UPTET परीक्षा की तैयारी कर रहे उम्मीदवारों के पास परीक्षा की तैयारी के लिए अब कुछ दिन का समय ही रह गया है । CBSE द्वारा CTET परीक्षा 16 दिसंबर 2021 से ऑनलाइन सीबीटी मोड में आयोजित की जाएगी तो वही उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती हेतु UPTET परीक्षा 28 नवंबर 2021 को प्रदेश में एक साथ ऑफलाइन आयोजित की जाएगी।  इन दोनों परीक्षाओं में लाखों अभ्यर्थी शामिल होंगे। यदि आप भी शिक्षक बनने के लिए इन TET परीक्षा (Teacher Eligibility Test) में सम्मिलित होने जा रहे हैं तो आपको परीक्षा के अंतिम दिनों में अपने रिवीजन पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है इसके साथ ही मॉक टेस्ट का अभ्यास आपको परीक्षा में की जाने वाली गलतियों से बचा सकता है।  CTET तथा UPTET परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों के लिए हम रोजाना महत्वपूर्ण टॉपिक पर प्रैक्टिस सेट/ मॉक टेस्ट लेकर आ रहे हैं और इसी श्रंखला में आज हम सीटेट व  यूपीटेट सहित सभी शिक्षक पात्रता परीक्षाओं में पूछे जाने वाले टॉपिक “समावेशी शिक्षा (inclusive education)” से बार-बार पूछे

सीखने के प्रतिफल, शिक्षण-विधियाँ, समावेशी शिक्षा में आ शिक्षकों की भूमिका

रा.शै.अ.प्र.प. ने सीखने के प्रतिफल को विकसित किया है जो पठन सामग्री को रटकर याद करने पर आधारित मूल्यांकन से दूर हटाने के लिए बनाया गया है।  योग्यता (सीखने के प्रतिफल) आधारित मूल्यांकन पर जोर देकर, शिक्षकों और पूरी व्यवस्था को यह समझने में मदद की गई है कि बच्चे ज्ञान, कौशल और सामाजिक-व्यक्तिगत गुणों और दृष्टिकोणों में परिवर्तन के मामले में वर्ष के दौरान एक विशेष कक्षा में क्या हासिल करेंगे।  सीखने के प्रतिफल ज्ञान और कौशल से परिपूर्ण ऐसे कथन हैं जिन्हें बच्चों को एक विशेष कक्षा या पाठ्यक्रम के अंत तक प्राप्त करने की आवश्यकता है और यह अधिगम संवर्धन की उन शिक्षणशास्त्रीय विधियों से समर्थित हैं जिनका क्रियान्वयन शिक्षकों द्वारा करने की आवश्यकता है।  ये कथन प्रक्रिया आधारित हैं और समग्र विकास के पैमाने पर बच्चे की प्रगति का आकलन करने के लिए गुणात्मक या मात्रात्मक दोनों तरीके से जाँच योग्य बिंदु प्रदान करते हैं। पर्यावरणीय अध्ययन के लिए सीखने के दो प्रतिफल नीचे दिए गए हैं। . विद्यार्थी विभिन्न आयुवर्ग के लोगों, जानवरों और पक्षियों में भोजन तथा पानी की आवश्यकता, भोजन और पानी की उपलब्धता तथा घ

विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम का चतुर्थ दीक्षा कोर्स पुनः दीक्षा app पर उपलब्ध, देखें लिंक

 सभी BSA, BEO,SRG, ARP एवं प्रधानाध्यापक/प्रधानाध्यापिका ध्यान दें:- विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम का चतुर्थ दीक्षा कोर्स पुनः दीक्षा app पर उपलब्ध:- उपरोक्त के संदर्भ में चतुर्थ कोर्स अब दीक्षा प्लेटफार्म पर पुनः उपलब्ध है। इस कोर्स से सम्बंधित निम्नलिखित जानकारी है-  1. कोर्स का नाम - अनुदेशात्मक/ निर्देशात्मक नेतृत्व 2. मॉड्यूल- यह कोर्स 5 भाग में विभाजित किया गया है, जिसके अंतर्गत अनुदेशात्मक नेतृत्व का परिचय, अनुदेशात्मक नेतृत्व मूल्यांकन एवं अनुदेशात्मक नेतृत्व के लिए कुछ रणनीतियां सम्मिलित की गयी हैं।  3. कुल समयावधि- कोर्स की कुल अवधि 30 मिनट है। कोर्स के पश्चात दिए गए अंतिम मूल्यांकन प्रश्नों के उत्तर देने पर ही कोर्स पूर्ण माना जायेगा।  4. दीक्षा प्लेटफार्म पर कोर्स  को पूर्ण करने हेतु लिंक-  https://diksha.gov.in/explore-course/course/do_313253563954642944126756 5. यह कोर्स सभी SRG, ARP,और सभी हेड टीचरों के लिए अनिवार्य है। साथ ही साथ जिन्होनें अप्रैल माह में यह कोर्स पूर्ण कर लिया था उन सभी को  यह कोर्स फिर से नहीं करना हैं। कृपया पाठ्यक्रम 30 जून 2021 से पहले समाप्त करे