सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

UPTET 2021 Sanskrit Sahitya Practice Set: संस्कृत साहित्य के ‘कवि और रचनाओ’ पर आधारित 15 संभावित सवाल जो परीक्षा में पूछे जा सकते हैं, अभी पढ़े

 UPTET परीक्षा 2021 का आयोजन 23 जनवरी 2022 को


किया जाएगा, इस परीक्षा में अब 20 दिन का बेहद कम समय बचा है, ऐसे में परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थी अपनी अंतिम तैयारी में जुटे हुए हैं ।

यूपीटीईटी का सिलेबस बहुत बड़ा है, जिसको बिना लक्ष्य बनाएं पूरा नहीं किया जा सकता अब बचे हुए कम समय को देखते हुए अभ्यार्थियों को उन टॉपिक्स पर टारगेट करना होगा ,जिसके आने की उम्मीद ज्यादा है साथ ही अभ्यर्थी पिछली बार की परीक्षा में पूछे गए प्रश्नों के अनुसार ही अपने स्टडी मटेरियल का चुनाव करें।

यहां हम उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (UPTET) के लिए रोजाना प्रैक्टिस सेट और रिवीजन क्वेश्चन उपलब्ध करा रहे हैं, उसी क्रम में आज हम आपके लिए ‘संस्कृत साहित्य’ के प्रमुख कवि और रचनाओं पर आधारित कुछ महत्वपूर्ण सवाल लेकर आए हैं, (UPTET Sanskrit Sahitya MCQ) जिससे परीक्षा में 1 से 2 सवाल पूछे जाते हैं अतः परीक्षा में शामिल होने से पूर्व आपको इन सवालों को एक नजर अवश्य पढ़ लेना चाहिए।

यूपीटीईटी परीक्षा में बार-बार पूछे जाते हैं संस्कृत साहित्य के सवाल— Sanskrit Sahitya Expected Practice Questions for UPTET 2021


Q1. “लघुसिद्धान्तकौमुदी” के रचयिता हैं?


(a) राजेशखर


(b) पाणिनि


(c) वरदराज


(d) भट्टोजी दीक्षित


Ans:- (c)


Q2. निम्न में से कौन सी रचना ‘भवभूति’ द्वारा रचित नहीं है?


(a) बुद्धचरित


(b) महावीरचरितम्


(c) मालतीमाधव


(d) उत्तररामचरितम्


Ans:- (a)


Q3. ‘भगवतगीता’ के रचयिता कौन हैं?


(a) हर्षवर्धन


(b) भरतमुनि


(c) वेदव्यास


(d) कालिदास


Ans:- (c)


Q4. ‘साहित्यदर्पण’ के रचयिता हैं?


(a) रामचन्द्र


(b) मम्मट


(c) विश्वनाथ


(d) हरदत्त


Ans:- (c)


Q5. ‘अभिज्ञानशाकुन्तलम्’ की नायिका कौन है ?


(a) मदालसा


(b) मेनका


(c) गौतमी


(d) शकुन्तला


Ans:- (d)


Q6. भारवि द्वारा रचित ‘किराताजुनीयम्’ में  ‘किरात’ के वेश में किसका वर्णन किया गया है?


(a) अर्जुन


(b) भील


(c) नकुल


(d) सहदेव


Ans:- (b)


Q7. इनमें से कौन सा ग्रन्थ ‘महाभारत’ पर आश्रित नहीं है?


(a) शिशुपालवधम्


(b) वेणीसंहारम्


(c) नैषधीयचरितम्


(d) स्वप्नवासवदत्तम्


Ans:- (d)


Q8. संस्कृत साहित्य में किस कवि की रचना को ‘विद्वदौषधम् ‘  कहा गया है?


(a) भास


(b) भारवि


(c) श्रीहर्ष


(d) कालिदास


Ans:- (b)


Q9. ‘शाल्मली वृक्ष’ का वर्णन किस ग्रंथ से प्राप्त होता है?


(a) रघुवंशम्


(b) कादम्बरी


(c) शिवराजविजयम्


(d) किरातार्जनीयम


Ans:- (b)


Q10. निम्नलिखित में से बाणभट्ट की कृति नहीं है?


(a) दशकुमारचरितम्


(b) कादम्बरी


(c) चण्डीशतकम्


Advertisement


(d) हर्षचरितम्


Ans:- (a)


Q11. ‘किरातानुर्जनीयम्’ के प्रभमसर्ग में वनेचर वार्तालाप कर रहा है?


(a) नकुल से


(b) दुर्योधन से


(c) युधिष्ठिर से


(d) अर्जुन से


Ans:- (c)


Q12. ‘अभिज्ञानशाकुन्तलम्’ के अनुसार शकुंतला के साथ पतिगृह हस्तिनापुर गई थी?


(a) गौतमी


(b) प्रियंवदा


(c) मेनका


(d) अनुसूया


Ans:- (a)


Q13. ‘रघुवंशमहाकाव्य’ के मङ्गलाचरण में कालिदास ने किसकी वन्दना की है?


(a) कार्तिकेय की


(b) शिव- पार्वती की


(c) गणेश – पार्वती की


(d) सरस्वती की


Ans:- (b)


Q14. कालिदासकृत ‘अभिज्ञानशाकुन्तलम् ‘ नाटक के किस अङ्क को सर्वाधिक महत्व दिया है?


(a) द्वितीय


(b) पञ्चम


(c) सप्तम


(d) चतुर्थ


Ans:- (d)


Q15. ‘किराताजुनीयम्’ का कथानक लिया गया है?


(a) रामायण से


(b) गीता से


(c) पुराणो से


(d) महाभारत से


Ans:- (d)


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गणित सीखने-सिखाने का सही क्रम क्या होना चाहिए?

बच्चों के पास स्कूल आने से पहले गणित से सम्बन्धित अनेक अनुभव पास होते हैं बच्चों के तमाम खेल ऐसे जिनमें वे सैंकड़े से लेकर हजार तक का हिसाब रखते हैं। वे अपने खेलों में चीजों का बराबर बँटवारा कर लेते हैं।  अपनी चीजों का हिसाब रखते हैं। छोटा-बड़ा, कम-ज्यादा, आगे-पीछे, उपर-नीचे, समूह बनाना, तुलना करना, गणना करना, मुद्रा की पहचान, दूरी का अनुमान, घटना-बढ़ना जैसी तमाम अवधारणाओं से बच्चे परिचित होते हैं।  हम बच्चों को प्रतीक ही सिखाते हैं। उनके अनुभवों को प्रतीकों से जोड़ना महत्वपूर्ण है। गणित मूर्त और अमूर्त से जुड़ने और जूझने का प्रयास है अवधारणाएँ अमूर्त होती हैं चाहे विषय कोई भी हो।  गणितीय अमूर्तता को मूर्त, ठोस चीजों की मदद से सरल बनाया जा सकता है। जब मूर्त को अमूर्त से जोड़ा जाता है तो अमूर्त का अर्थ स्पष्ट हो जाता है।  प्रस्तुतीकरण के तरीकों से भी कई बार गणित अमूर्त प्रतीत होने लगता है। शुरुआती दिनों में गणित सीखने में ठोस वस्तुओं की भूमिका अहम होती है इस उम्र में बच्चे स्वाभाविक तौर पर तरह-तरह की चीजों से खेलते हैं, उन्हें जमाते. बिगाड़ते और फिर से जमाते हैं।  इस प्रक्रिया में उनकी

सीखने के प्रतिफल, शिक्षण-विधियाँ, समावेशी शिक्षा में आ शिक्षकों की भूमिका

रा.शै.अ.प्र.प. ने सीखने के प्रतिफल को विकसित किया है जो पठन सामग्री को रटकर याद करने पर आधारित मूल्यांकन से दूर हटाने के लिए बनाया गया है।  योग्यता (सीखने के प्रतिफल) आधारित मूल्यांकन पर जोर देकर, शिक्षकों और पूरी व्यवस्था को यह समझने में मदद की गई है कि बच्चे ज्ञान, कौशल और सामाजिक-व्यक्तिगत गुणों और दृष्टिकोणों में परिवर्तन के मामले में वर्ष के दौरान एक विशेष कक्षा में क्या हासिल करेंगे।  सीखने के प्रतिफल ज्ञान और कौशल से परिपूर्ण ऐसे कथन हैं जिन्हें बच्चों को एक विशेष कक्षा या पाठ्यक्रम के अंत तक प्राप्त करने की आवश्यकता है और यह अधिगम संवर्धन की उन शिक्षणशास्त्रीय विधियों से समर्थित हैं जिनका क्रियान्वयन शिक्षकों द्वारा करने की आवश्यकता है।  ये कथन प्रक्रिया आधारित हैं और समग्र विकास के पैमाने पर बच्चे की प्रगति का आकलन करने के लिए गुणात्मक या मात्रात्मक दोनों तरीके से जाँच योग्य बिंदु प्रदान करते हैं। पर्यावरणीय अध्ययन के लिए सीखने के दो प्रतिफल नीचे दिए गए हैं। . विद्यार्थी विभिन्न आयुवर्ग के लोगों, जानवरों और पक्षियों में भोजन तथा पानी की आवश्यकता, भोजन और पानी की उपलब्धता तथा घ

गणित में जोड़ शिक्षण के तरीके और गतिविधियां, देखें गतिविधियों के माध्यम से

गणित सीखने-सिखाने के परम्परागत तरीकों में गणित सीखने की प्रक्रिया की लगातार होती गयी है और धीरे-धीरे वह परिणाम आधारित हो गयी।  आप भी अपनी कक्षा में यही सब नहीं कर रहे हैं? कैसा माहौल रहता है आपकी गणित की कक्षा में? इसी माहौल से गुजर कर आपके सवालों के सही जवाब भी देने लगते होंगे।  पर क्या आपने जानने की कोशिश की कि ने सही जवाब देने के लिए किस प्रक्रिया को अपनाया? एक साधारण जोड़ को बच्चे ने इस प्रकार किया।   यहाँ विचार करें तो आप पाते हैं कि पहले प्रश्न को बच्चे ने सही हल किया परन्तु दूसरे शल में वही प्रक्रिया अपनाने के बाद भी क्यों उसका उत्तर सही नहीं हैं? क्या हमारी लक्ष्य केवल इतना है कि बच्चा जोड़ना सीख लें? या उसमें जोड़ करने की प्रक्रिया की समझ भी विकसित करनी है वास्तव में जोड़ की समझ के विकास में निहित है। दो या अधिक वस्तुओं या चीजों को एक साथ मिलने से परिणाम के रूप में वस्तुओं की संख्या का बढ़ना। स्थानीय मान का शामिल होना। . यह समझना है कि हासिल अर्थात जोड़ की क्रिया में परिणाम दस या अधिक होने पर दहाई की संख्या अपने बायें स्थित दहाइयों में जुड़ती हैं जिसे हासिल समझा जाता है। . परि

विद्यालयों में सहशैक्षिक गतिविधियों को कैसे क्रियान्वित करें?

प्रारम्भिक विद्यालयों में सह शैक्षिक गतिविधियों के आयोजन में प्रधानाध्यापक एवं अध्यापक की भूमिका को निम्नवत् देखा जा सकता है।  • विद्यालयों में सहशैक्षिक गतिविधियों को कैसे क्रियान्वित करें, इसके बारे में परस्पर चर्चा करना तथा आवश्यक सहयोग प्रदान करते हुए निरंतर संवाद बनाये रखना। क्रियाकलापों का अनुश्रवण करना तथा आयी हुई समस्याओं का निराकरण सभी की सहभागिता द्वारा करना। इन क्रियाकलापों में बालिकाओं की सहभागिता अधिक से अधिक हो साथ ही साथ सभी छात्रों की प्रतिभागिता सुनिश्चित हो, इस हेतु सामूहिक जिम्मेदारी लेना।। • समय सारिणी में खेलकूद/ पीटी,ड्राइंग, क्राफ्ट, संगीत, सिलाई/बुनाई व विज्ञान के कार्यों प्रतियोगिताएं हेतु स्थान व वादन को सुनिश्चित करना।  • स्कूलों में माहवार/त्रैमासिक कितनी बार किस प्रकार की प्रतियोगिताएं कराई गई, इसकी जानकारी प्राप्त करना एवं रिकार्ड करना। बच्चों के स्तर एवं रुचि के अनुसार कहानियां, चुटकुले, कविता आदि का संकलन स्वयं करना तथा बच्चों से कराना।  • विज्ञान/गणित सम्बन्धी प्रतियोगिताओं हेतु विषय से सम्बन्धित प्रश्न बैंक रखना। आवश्यक वस्तुओं का संग्रह रखना। जन सहभाग

निष्ठा FLN प्रशिक्षण, उत्तर प्रदेश All 12 Module Re-Launch

 *निष्ठा FLN प्रशिक्षण, उत्तर प्रदेश*  *All 12 Module Re-Launch*  Start Date : *01 April 2022*     End Date:    *31 May 2022* *सभी छूटे/अपूर्ण प्रशिक्षण अनिवार्य रूप से पूर्ण करें*  BSA, DIET प्राचार्य, BEO, KRP, SRG, ARP, DIET मेंटर, शिक्षक संकुल, निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर एवं अन्य सभी सदस्य कृपया ध्यान दें: जैसा की आप अवगत है कि, निष्ठा प्रशिक्षण प्रदेश में 15 october 2021 से  दीक्षा पोर्टल के माध्यम से शुरू किया गया  है ।  इसी क्रम मे  *01 April 2022 से 31 March 2022 तक सभी 12 मॉड्यूल्स दोबारा Live किए जा रहें हैं,* सभी BSA, DIET प्राचार्य, BEO, SRG, KRP, ARP, DIET मेंटर एवं निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर इस अनिवार्य प्रशिक्षण से सभी छूटे शिक्षकों को जोड़ना सहुनिश्चित करें |  ऐसे और पोस्ट देखने के लिए और Eduleaders UP से जुड़ने के लिए क्लिक करें 👇👇 https://kutumbapp.page.link/wcno7npkNiu37ycT8 प्रशिक्षण से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियाँ निम्वत है- Module 1 https://diksha.gov.in/learn/course/do_31350640194554265614601 Module 2 https://diksha.gov.in/learn/course/do_313506414403559424

निष्ठा FLN प्रशिक्षण : Module 11,12 (दीक्षा Link)

 *निष्ठा FLN प्रशिक्षण, उत्तर प्रदेश*  *Module 11 & 12 Launch*  Start Date : *1 March 2022*     End Date:    *31 March 2022* BSA, DIET प्राचार्य, BEO, KRP, SRG, ARP, DIET मेंटर, शिक्षक संकुल, निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर एवं अन्य सभी सदस्य कृपया ध्यान दें: जैसा की आप अवगत है कि, निष्ठा FLN प्रशिक्षण प्रदेश में 15 October 2021 से  दीक्षा पोर्टल के माध्यम से शुरू किया गया है ।  इसी क्रम मे *Module 11 एवं 12, 1 March 2022 से Live* किये जा रहें हैं, सभी BSA, DIET प्राचार्य, BEO, SRG, KRP, ARP, DIET मेंटर एवं निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर *इस अनिवार्य प्रशिक्षण से सभी प्राथमिक विद्यालयों एवं कंपोज़िट विद्यालयों के कक्षा 1 से 5 तक के शिक्षकों को जोड़ना सुनिश्चित करें*|  *प्रशिक्षण से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियाँ निम्वत है-*   *Module 11 (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/explore-course/course/do_31348436997064294412994 *   *Module 12  (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/explore-course/course/do_31348437328270950412789 *   *Important Note-*   *1.* प्रशिक्षण से पहले सभी users अपना दीक्षा

समावेशी शिक्षा क्या है? समावेशी शिक्षा की विशेषताएं एवं रिपोटिंग/डाक्युमेन्टेशन

कक्षा में बच्चों के साथ कार्य करते हुए आपने अनुभव किया होगा कि हर बच्चा स्वयं में कोई न कोई विशिष्टता एवं विविधता लिए होता है । उनके रुचि और रुझानों में भी यह विविधता पाई जाती है।  यह विविधता काफी हद तक उनके परिवेश एवं परिस्थितियों के कारण या शारीरिक आकार प्रकार से प्रभावित होती है। बच्चों में इस विविधता के कारण कुछ खास श्रेणियाँ उभरकर आती हैं। जैसे- तेज/धीमी गति से सीखने वाले, शारीरिक कारणों से सीखने में बाधा अनुभव करने वाले बच्चे, परिवेशीय व लैंगिक विविधता वाले बच्चे।  इनमें कुछ और श्रेणियाँ भी जुड़ सकती हैं। शिक्षक के रूप में इतनी विविधता से भरे बच्चों को हमें कक्षा के भीतर सीखने का समावेशी वातावरण देना होता है। समावेशी शिक्षा अर्थात् ऐसी शिक्षा जो सबके लिए हो। विद्यालय में विविधताओं से भरे सभी प्रकार के बच्चों को एक साथ एक कक्षा में शिक्षा देना ही समावेशी शिक्षा है। समावेशी शिक्षा से तात्पर्य है वह शिक्षा जिसमें किसी एक विशेष व्यक्ति श्रेणी पर निर्भर न होकर सभी को शामिल किया जाता है । "समावेशन शब्द का अपने-आप में कुछ खास अर्थ नहीं होता है। समावेशन के चारों ओर जो वैचारिक, दार्

शिक्षण संग्रह (Compendium) : शिक्षण संग्रह की अवधारणा एवं आवश्यकता - ( Concept and Need)

यह सर्वविदित है कि प्राथमिक विद्यालय के वातावरण का प्रभाव बच्चों (विद्यार्थियों) के सम्पूर्ण जीवन पर पड़ता है। प्राथमिक कक्षाओं में शिक्षक/शिक्षिका अपने कार्य एवं आचरण के माध्यम से विद्यार्थियों में अनेक अच्छी आदतों जैसे- अनुशासित रहना, विद्यालय के नियमों का पालन करना, शिक्षकों का आदर-सम्मान करना, आपस में एक दूसरे का सहयोग करना आदि को सहज रूप में अंतरित द विकसित करते रहते हैं यही गुण कालांतर में बच्चों के व्यक्तित्व एवं सामाजिक जीवन में संस्कारों के रूप में परिलक्षित होते हैं। बच्चों के व्यक्तित्व निर्माण में विद्यालय के शैक्षिक वातावरण की इस महत्त्वपूर्ण भूमिका के सन्दर्भ में अगर हम विचार करते हैं तो प्रमुख रूप से निम्नांकित अवयव उभर कर आते हैं विद्यालय भवन का अत्यंत आकर्षक और साफ सुथरा होना। विद्यालय भवन की बाउण्ड्री वॉल का राष्ट्रीय प्रतीकों, रोचक खेलों, पशु-पक्षियों के रंगीन चित्रों से सुसज्जित होना। विद्यालय भवन की दीवारों, खम्भों फर्श, बरामदों को महापुरुषों के चित्रों, आदर्श वाक्यों/सूक्तियों, वर्णमाला आदि से सुसज्जित होना। कक्षा-कक्षों में समय सारिणी, शैक्षिक चार्ट्स मॉडल्स, लर्

सामुदायिक सहयोग हेतु कार्य-योजना निर्माण कैसे करें?

विद्यालय प्रबंध समिति (SMC) के सदस्य विद्यालय और समुदाय के बीच प्रमुख सेतु हं भूमिका निभा सकते हैं। इसके लिए व्यक्तिगत स्तर पर प्रत्येक विद्यालय को एस०एम०सी0 सहयोग से सामुदायिक सहयोग की कार्य योजना विकसित करनी होगी। कार्य योजना के संभावित क्षेत्र निम्नवत हो सकते हैं। (अ) भौतिक संसाधन-चहारदिवारी, पंखा, फर्नीचर, स्टेशनरी, पेयजल, स्मार्ट बोर्ड, शैक्षिक तकनीकी से संबंधित उपकरण आदि। (ब) मानवीय संसाधन-सामुदायिक संसाधनों का कक्षा-कक्षीय एवं अन्य सहशैक्षिक क्रियाकलाप में उपयोग।  उक्त बिन्दुओं के परिप्रेक्ष्य में हमें अपनी संस्था उपलब्ध भौतिक / मानवीय संसाधनों की उपलब्धता की समीक्षा करने के बाद विद्यालय की आवश्यकताओं का चिह्नांकन करना होगा तदुपरान्त उन आवश्यकताओं का वर्गीकरण करते हुए सामुदायिक सहभागिता के प्रकार को स्पष्ट रूप से रेखांकित करते हुए समुदाय से संपर्क स्थापित करना होगा।  इस प्रकार आवश्यकताओं के अनुसार संदर्भों/ स्रोतों की मदद लेते हुए कार्य योजना विकसित कर हम अपने कार्य को और बेहतर बना सकते हैं तथा समुदाय से बेहतर जुड़ाव स्थापित कर सकते हैं ।             सामुदायिक सहयोग की कार्य योज

आकलन प्रपत्र का निर्माण कैसे करें? देखें कक्षा- 1 गणित का सैम्पल प्रपत्र

आकलन प्रपत्र का निर्माण बच्चों के स्तर को जानने के लिए किया जाता है, जिससे आगामी शिक्षण योजना का निर्माण किया जा सके। प्रारंभिक आकलन के पश्चात ही शिक्षण योजना के अनुसार कार्य प्रारंभ करना चाहिए।