सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

CTET 2021 English Pedagogy Revision Series for Paper 1 & 2: दीजिये इन सवालो के जबाब और चेक करे अपनी तैयारी

 सीबीएसई द्वारा केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (CTET) वर्ष में


दो बार आयोजित की जाती है पहली परीक्षा जुलाई माह में जबकि दूसरी परीक्षा नवंबर में आयोजित होती है। 

इस साल कोरोना के चलते नवंबर में होने वाली सीटेट परीक्षा अब 16 दिसंबर 2021 से 13 जनवरी 2022 तक ऑनलाइन CBT मोड मे ली जाएगी। 

यदि आप भी CTET परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं तो इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण है।

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (CTET) शुरू होने में अब एक माह से भी कम समय रह गया है ऐसे में परीक्षा की तैयारी कर रहे उम्मीदवारों को अपना रिवीजन शुरू कर देना चाहिए।

 हम रोजाना CTET परीक्षा के विभिन्न टॉपिक्स पर मॉक टेस्ट/ रिवीजन क्वेश्चन शेयर कर रहे हैं और इसी श्रंखला में आज हम CTET पेपर 1 तथा पेपर 2 हेतु इंग्लिश पेडगॉजी के कुछ महत्वपूर्ण संभावित प्रश्न शेयर कर रहे हैं।

आपको बता दें कि परीक्षा में इंग्लिश भाषा सेक्शन से 30 सवाल पूछे जाते हैं जिसमें से 15 प्रश्न पेडगॉजी (Pedagogy of Language Development) से संबंधित होते हैं  तथा 15 प्रश्न Comprehension के होते हैं जिसमें दो unseen prose passages, एवं grammar/verbal ability के सवाल पूछे जाते है।


English Pedagogy Expected Questions for CTET Paper 1 and Paper 2


Q1. which of the following is a technique of assessment?


(a) Rubrics


(b) Interview


(c) Checklist


(d) Rating scale


Ans- (b)


Q2. Dictionary is a very important tool for learning a language which of the following is least important about the use of dictionary?


(a) check the spelling of words.


(b) looking at the meaning of a word.


(c) check the passive voice of a word.


(d) check the part of speech of a word.


Ans- (c)


Q3. The theory of Universal grammar was formulated by:


(a) Stephen Krashen


(b) Steven pinker


(c) Jean Piaget


(d) Noam Chomsky


Ans- (d)


Q4. learners need to brainstorm ideas, organise them, draft, edit and revise their work this is a process of ____.


(a) listening


(b) speaking


(c) writing


(d) reading


Ans- (d)


Q5. Pause, stress and intonation are associated with ____.


(a) comprehension


(b) speaking


(c) writing


(d) silent reading


Ans-(b)


Q6. Holistic ambulation of the learner is done by ___.


(a) comprehensive and continuous evolution.


(b) session and evaluation


(c) Term evaluation


(d) unit evaluation


Ans- (a)


Q7. English is considered to be the second language in our state because it is_____.


(a) only available at home


(b) only available in the school


(c) available in the school and surrounding


(d) available everywhere


Ans-(c)


Q8. What is the respective skill of language?


(a) listening and reading


(b) listening and reading 


(c) speaking and writing


(d) understanding and writing


Ans- (a)


Q9. Non – detailed text develop……..


(a) intensive reading


(b) extensive reading


(c) critical reading


(d) slow reading


Ans-(b)


Q10. which of the following is a faulty habit of silent reading?


(a) drawing reference


(b) finding the meaning of words through context


(c) progressive eye movements


(d) reading the text word per word


Ans- (d)


Q11. Teaching grammar should focus on……….


(a) rules of language


(b) form and structure of language


(c) the communicative function of language


(d) both structures and rules of language


Ans- (b)


Q12. the objective of ____is to listen and write.


(a) note-making


(b) note-taking


(c) course reading


(d) silent reading


Ans- (b)


Q13.’skimming’ is a subskill of :


(a) listening


(b) reading


(c) writing


(d) speaking


Ans-(b)


Q14. effective learning takes place when the learners are :


(a) passive


(b) quiet


(c) interactive


(d) good at preparing for the examination


Ans-(c)


Q15. which is not a guiding principle of NCF 2005?


(a) connecting knowledge to life outside the school


(b) ensuring children provided job opportunity


(c) ensuring learning shifted away from the rote methods


(d)making examination more flexible


Ans-(b)


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गणित सीखने-सिखाने का सही क्रम क्या होना चाहिए?

बच्चों के पास स्कूल आने से पहले गणित से सम्बन्धित अनेक अनुभव पास होते हैं बच्चों के तमाम खेल ऐसे जिनमें वे सैंकड़े से लेकर हजार तक का हिसाब रखते हैं। वे अपने खेलों में चीजों का बराबर बँटवारा कर लेते हैं।  अपनी चीजों का हिसाब रखते हैं। छोटा-बड़ा, कम-ज्यादा, आगे-पीछे, उपर-नीचे, समूह बनाना, तुलना करना, गणना करना, मुद्रा की पहचान, दूरी का अनुमान, घटना-बढ़ना जैसी तमाम अवधारणाओं से बच्चे परिचित होते हैं।  हम बच्चों को प्रतीक ही सिखाते हैं। उनके अनुभवों को प्रतीकों से जोड़ना महत्वपूर्ण है। गणित मूर्त और अमूर्त से जुड़ने और जूझने का प्रयास है अवधारणाएँ अमूर्त होती हैं चाहे विषय कोई भी हो।  गणितीय अमूर्तता को मूर्त, ठोस चीजों की मदद से सरल बनाया जा सकता है। जब मूर्त को अमूर्त से जोड़ा जाता है तो अमूर्त का अर्थ स्पष्ट हो जाता है।  प्रस्तुतीकरण के तरीकों से भी कई बार गणित अमूर्त प्रतीत होने लगता है। शुरुआती दिनों में गणित सीखने में ठोस वस्तुओं की भूमिका अहम होती है इस उम्र में बच्चे स्वाभाविक तौर पर तरह-तरह की चीजों से खेलते हैं, उन्हें जमाते. बिगाड़ते और फिर से जमाते हैं।  इस प्रक्रिया में उनकी

निष्ठा FLN प्रशिक्षण 2021: Module 05 & 06 Launch End Date: 31 December 2021

 *निष्ठा FLN प्रशिक्षण 2021, उत्तर प्रदेश*  *Module 05 & 06 Launch*  Start Date : *1 December 2021*     End Date:    *31 December 2021* BSA, DIET प्राचार्य, BEO, KRP, SRG, ARP, DIET मेंटर, शिक्षक संकुल, निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर एवं अन्य सभी सदस्य कृपया ध्यान दें: जैसा की आप अवगत है कि, निष्ठा FLN प्रशिक्षण प्रदेश में 15 October 2021 से  दीक्षा पोर्टल के माध्यम से शुरू किया गया है ।  इसी क्रम मे *Module 05 एवं 06, 1 December 2021 से Live* किये जा रहें हैं, सभी BSA, DIET प्राचार्य, BEO, SRG, KRP, ARP, DIET मेंटर एवं निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर *इस अनिवार्य प्रशिक्षण से सभी प्राथमिक विद्यालयों एवं कंपोज़िट विद्यालयों के कक्षा 1 से 5 तक के शिक्षकों को जोड़ना सुनिश्चित करें*|  *प्रशिक्षण से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियाँ निम्वत है-*   *Module 5 (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/learn/course/do_31342093148966092812490 *   *Module 6  (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/learn/course/do_31342092885229568012347 *   *Important Note-*   *1.* प्रशिक्षण से पहले सभी users अपना दीक्षा ऐप pl

समावेशी शिक्षा क्या है? समावेशी शिक्षा की विशेषताएं एवं रिपोटिंग/डाक्युमेन्टेशन

कक्षा में बच्चों के साथ कार्य करते हुए आपने अनुभव किया होगा कि हर बच्चा स्वयं में कोई न कोई विशिष्टता एवं विविधता लिए होता है । उनके रुचि और रुझानों में भी यह विविधता पाई जाती है।  यह विविधता काफी हद तक उनके परिवेश एवं परिस्थितियों के कारण या शारीरिक आकार प्रकार से प्रभावित होती है। बच्चों में इस विविधता के कारण कुछ खास श्रेणियाँ उभरकर आती हैं। जैसे- तेज/धीमी गति से सीखने वाले, शारीरिक कारणों से सीखने में बाधा अनुभव करने वाले बच्चे, परिवेशीय व लैंगिक विविधता वाले बच्चे।  इनमें कुछ और श्रेणियाँ भी जुड़ सकती हैं। शिक्षक के रूप में इतनी विविधता से भरे बच्चों को हमें कक्षा के भीतर सीखने का समावेशी वातावरण देना होता है। समावेशी शिक्षा अर्थात् ऐसी शिक्षा जो सबके लिए हो। विद्यालय में विविधताओं से भरे सभी प्रकार के बच्चों को एक साथ एक कक्षा में शिक्षा देना ही समावेशी शिक्षा है। समावेशी शिक्षा से तात्पर्य है वह शिक्षा जिसमें किसी एक विशेष व्यक्ति श्रेणी पर निर्भर न होकर सभी को शामिल किया जाता है । "समावेशन शब्द का अपने-आप में कुछ खास अर्थ नहीं होता है। समावेशन के चारों ओर जो वैचारिक, दार्

विद्यालयों में सहशैक्षिक गतिविधियों को कैसे क्रियान्वित करें?

प्रारम्भिक विद्यालयों में सह शैक्षिक गतिविधियों के आयोजन में प्रधानाध्यापक एवं अध्यापक की भूमिका को निम्नवत् देखा जा सकता है।  • विद्यालयों में सहशैक्षिक गतिविधियों को कैसे क्रियान्वित करें, इसके बारे में परस्पर चर्चा करना तथा आवश्यक सहयोग प्रदान करते हुए निरंतर संवाद बनाये रखना। क्रियाकलापों का अनुश्रवण करना तथा आयी हुई समस्याओं का निराकरण सभी की सहभागिता द्वारा करना। इन क्रियाकलापों में बालिकाओं की सहभागिता अधिक से अधिक हो साथ ही साथ सभी छात्रों की प्रतिभागिता सुनिश्चित हो, इस हेतु सामूहिक जिम्मेदारी लेना।। • समय सारिणी में खेलकूद/ पीटी,ड्राइंग, क्राफ्ट, संगीत, सिलाई/बुनाई व विज्ञान के कार्यों प्रतियोगिताएं हेतु स्थान व वादन को सुनिश्चित करना।  • स्कूलों में माहवार/त्रैमासिक कितनी बार किस प्रकार की प्रतियोगिताएं कराई गई, इसकी जानकारी प्राप्त करना एवं रिकार्ड करना। बच्चों के स्तर एवं रुचि के अनुसार कहानियां, चुटकुले, कविता आदि का संकलन स्वयं करना तथा बच्चों से कराना।  • विज्ञान/गणित सम्बन्धी प्रतियोगिताओं हेतु विषय से सम्बन्धित प्रश्न बैंक रखना। आवश्यक वस्तुओं का संग्रह रखना। जन सहभाग

लर्निंग आउटकम एवं आकलन

आप भली भांति अवगत हैं कि विद्यालयीय पाठ्यक्रम का निर्धारण एवं पाठ्यपुस्तकों/ कार्यपुस्तिकाओं का निर्माण विभिन्न कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए निर्धारित दक्षताओं के विकास क ध्यान में रखकर किया गया है।  शिक्षक पाठ्यपुस्तकों/कार्यपुस्तिका व अन्य शिक्षण सहायक सामग्र के माध्यम से अपनी कक्षा-शिक्षण गतिविधियों को संचालित करते हैं।  वास्तव में कक्षा शिक्षण के उपरान्त सबसे महत्वपूर्ण एवं व्यावहारिक पक्ष यह है कि क्या बच्चे उन दक्षताओं को प्राप्त कर रहे हैं अथवा नहीं। लर्निंग आउटकम (अधिगम सम्बन्धी परिणाम): लर्निंग आउटकम इसी बात पर बल देते हैं कि मात्र शिक्षक ही नहीं अपितु अभिभावक भी य जानें कि उनका बच्चा जिस कक्षा में है, उस कक्षा के विभिन्न विषयों में उसे क्या-क्या ज्ञान होन चाहिए और क्या-क्या ज्ञान उसने अर्जित कर लिया है। 'लर्निंग आउटकम (अधिगम सम्बन्धी परिणाम ) से आशय उन परिणामों (दक्षताओं) से है जो किसी कक्षा में अध्ययनरत विद्यार्थियों को उनके निर्धारित पाठ्यक्रम के अनुरूप अपेक्षित दक्षताओं के प्राप्त होने पर परिलक्षित होते हैं। यह एक 'परिणाम आधारित लक्ष्य है' जो कि बच्चे की प्र

UPTET Hindi Practice Set 3: यूपीटीईटी परीक्षा में शामिल होने से पूर्व, हिंदी भाषा के इन प्रश्नों पर एक नजर अवश्य डालें

 UPTET Hindi Practice Set) : उत्तर प्रदेश में सरकारी शिक्षकों की भर्ती के लिए उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन बोर्ड (UPBEB) 28 नवंबर 2021 को UPTET परीक्षा आयोजित करने जा रहा है, यह परीक्षा ऑफलाइन होगी जिसके एडमिट कार्ड (Admit Card) ऑफिशियल वेबसाइट updeled.gov.in पर जारी कर दिए गए हैं।  यदि आप भी यूपी टेट परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं, तो इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके बेहद काम की है।  यूपीटीईटी पेपर 1 तथा पेपर 2 में हिंदी भाषा एक ऐसा विषय है जहां से बहुत आसानी से अच्छे अंक हासिल किए जा सकते हैं।   इसीलिए यहां हमने एग्जाम पैटर्न पर आधारित “हिंदी भाषा” के संभावित सवाल का प्रैक्टिस सेट भाग 3 शेयर किया है जो आपको परीक्षा में अच्छे अंक हासिल करने में कारगर साबित होगा इससे पहले हम UPTET परीक्षा के हिंदी अनुभाग हेतु प्रैक्टिस सेट 1 तथा 2 लेकर आ चुके हैं।  आपको बताते चलें कि UPTET परीक्षा 2021 में दो पेपर लिए जाएंगे हैं कक्षा 1 से 5 तक के छात्रों को पढ़ाने की इच्छा रखने वाले अभ्यर्थियों को UPTET पेपर 1 पास करना होता है तो वही कक्षा 6 से 8 के विद्यार्थियों को पढ़ाने के के लिए पेपर 2 पास

निष्ठा FLN प्रशिक्षण Module 03, 04 Launch 30 November 2021 तक करें पूर्ण

 *निष्ठा FLN प्रशिक्षण 2021, उत्तर प्रदेश*  *Module 03, 04 Launch*  Start Date : *1 November 2021*     End Date:    *30 November 2021* BSA, DIET प्राचार्य, BEO, KRP, SRG, ARP, DIET मेंटर, शिक्षक संकुल, निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर एवं अन्य सभी सदस्य कृपया ध्यान दें: जैसा की आप अवगत है कि, निष्ठा FLN प्रशिक्षण प्रदेश में 15 october 2021 से  दीक्षा पोर्टल के माध्यम से शुरू किया जा रहा  है ।  इसी क्रम मे *Module 03 एवं 04, 1 November 2021 से Live* किये जा रहें हैं, सभी BSA, DIET प्राचार्य, BEO, SRG, KRP, ARP, DIET मेंटर एवं निष्ठा एडमिन/कोऑर्डिनेटर *इस अनिवार्य प्रशिक्षण से सभी प्राथमिक विद्यालयों एवं कंपोज़िट विद्यालयों के कक्षा 1 से 5 तक के शिक्षकों को जोड़ना सुनिश्चित करें*|  *प्रशिक्षण से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियाँ निम्वत है-*   *Module 3 (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/learn/course/do_31339962349061734411775 *   *Module 4  (दीक्षा Link)* : * https://diksha.gov.in/learn/course/do_3133996453859491841430 *   *Important Note-*   *1.* प्रशिक्षण से पहले सभी users अपना दीक्षा ऐप play

CTET/UPTET 2021 Inclusive Education-समावेशी शिक्षा के महत्वपूर्ण सवाल जो टीईटी परीक्षा मे पूछे जाते है, अभी देखें

 UPTET 2021 (Inclusive Education): शिक्षक बनने के लिए CTET तथा UPTET परीक्षा की तैयारी कर रहे उम्मीदवारों के पास परीक्षा की तैयारी के लिए अब कुछ दिन का समय ही रह गया है । CBSE द्वारा CTET परीक्षा 16 दिसंबर 2021 से ऑनलाइन सीबीटी मोड में आयोजित की जाएगी तो वही उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती हेतु UPTET परीक्षा 28 नवंबर 2021 को प्रदेश में एक साथ ऑफलाइन आयोजित की जाएगी।  इन दोनों परीक्षाओं में लाखों अभ्यर्थी शामिल होंगे। यदि आप भी शिक्षक बनने के लिए इन TET परीक्षा (Teacher Eligibility Test) में सम्मिलित होने जा रहे हैं तो आपको परीक्षा के अंतिम दिनों में अपने रिवीजन पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है इसके साथ ही मॉक टेस्ट का अभ्यास आपको परीक्षा में की जाने वाली गलतियों से बचा सकता है।  CTET तथा UPTET परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों के लिए हम रोजाना महत्वपूर्ण टॉपिक पर प्रैक्टिस सेट/ मॉक टेस्ट लेकर आ रहे हैं और इसी श्रंखला में आज हम सीटेट व  यूपीटेट सहित सभी शिक्षक पात्रता परीक्षाओं में पूछे जाने वाले टॉपिक “समावेशी शिक्षा (inclusive education)” से बार-बार पूछे

सीखने के प्रतिफल, शिक्षण-विधियाँ, समावेशी शिक्षा में आ शिक्षकों की भूमिका

रा.शै.अ.प्र.प. ने सीखने के प्रतिफल को विकसित किया है जो पठन सामग्री को रटकर याद करने पर आधारित मूल्यांकन से दूर हटाने के लिए बनाया गया है।  योग्यता (सीखने के प्रतिफल) आधारित मूल्यांकन पर जोर देकर, शिक्षकों और पूरी व्यवस्था को यह समझने में मदद की गई है कि बच्चे ज्ञान, कौशल और सामाजिक-व्यक्तिगत गुणों और दृष्टिकोणों में परिवर्तन के मामले में वर्ष के दौरान एक विशेष कक्षा में क्या हासिल करेंगे।  सीखने के प्रतिफल ज्ञान और कौशल से परिपूर्ण ऐसे कथन हैं जिन्हें बच्चों को एक विशेष कक्षा या पाठ्यक्रम के अंत तक प्राप्त करने की आवश्यकता है और यह अधिगम संवर्धन की उन शिक्षणशास्त्रीय विधियों से समर्थित हैं जिनका क्रियान्वयन शिक्षकों द्वारा करने की आवश्यकता है।  ये कथन प्रक्रिया आधारित हैं और समग्र विकास के पैमाने पर बच्चे की प्रगति का आकलन करने के लिए गुणात्मक या मात्रात्मक दोनों तरीके से जाँच योग्य बिंदु प्रदान करते हैं। पर्यावरणीय अध्ययन के लिए सीखने के दो प्रतिफल नीचे दिए गए हैं। . विद्यार्थी विभिन्न आयुवर्ग के लोगों, जानवरों और पक्षियों में भोजन तथा पानी की आवश्यकता, भोजन और पानी की उपलब्धता तथा घ

विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम का चतुर्थ दीक्षा कोर्स पुनः दीक्षा app पर उपलब्ध, देखें लिंक

 सभी BSA, BEO,SRG, ARP एवं प्रधानाध्यापक/प्रधानाध्यापिका ध्यान दें:- विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम का चतुर्थ दीक्षा कोर्स पुनः दीक्षा app पर उपलब्ध:- उपरोक्त के संदर्भ में चतुर्थ कोर्स अब दीक्षा प्लेटफार्म पर पुनः उपलब्ध है। इस कोर्स से सम्बंधित निम्नलिखित जानकारी है-  1. कोर्स का नाम - अनुदेशात्मक/ निर्देशात्मक नेतृत्व 2. मॉड्यूल- यह कोर्स 5 भाग में विभाजित किया गया है, जिसके अंतर्गत अनुदेशात्मक नेतृत्व का परिचय, अनुदेशात्मक नेतृत्व मूल्यांकन एवं अनुदेशात्मक नेतृत्व के लिए कुछ रणनीतियां सम्मिलित की गयी हैं।  3. कुल समयावधि- कोर्स की कुल अवधि 30 मिनट है। कोर्स के पश्चात दिए गए अंतिम मूल्यांकन प्रश्नों के उत्तर देने पर ही कोर्स पूर्ण माना जायेगा।  4. दीक्षा प्लेटफार्म पर कोर्स  को पूर्ण करने हेतु लिंक-  https://diksha.gov.in/explore-course/course/do_313253563954642944126756 5. यह कोर्स सभी SRG, ARP,और सभी हेड टीचरों के लिए अनिवार्य है। साथ ही साथ जिन्होनें अप्रैल माह में यह कोर्स पूर्ण कर लिया था उन सभी को  यह कोर्स फिर से नहीं करना हैं। कृपया पाठ्यक्रम 30 जून 2021 से पहले समाप्त करे